23 C
Mumbai
Monday, March 4, 2024

आपका भरोसा ही, हमारी विश्वसनीयता !

इन्साफ कहाँ है – बिल्डरों की पानी माफियाओं के साथ साठ-गांठ के चलते, नालासोपारा (प) में गरीब इन्सान बदबूदार पानी इस्तेमाल करने को मजबूर । – रवि निगम

आखिर सरकार और प्रशासन नाम की कोई व्यवस्था है या नही, मनपा क्योंकर ऐसे लोंगों पर सख्त कार्यवाही नहीं करती ? पीने का पानी सुलभ कराना क्या सारकार / प्रशासन की जिम्मेदारी नहीं है ? क्या सिर्फ वोटों के खतिर ऐसी बिल्डिंग और चाल बसाये जाते हैं ? क्या इन्हे मूलभूत सुविधाओं का अधिकार प्राप्त है कि नही ? या सिर्फ वोट और नोट भुनाने का माध्यम है ये सब गरीब लोग ?

सुनिये सरकार अपनी जनता की व्यथा , और अगर इन्सानियत नाम की कोई चीज हो तो इन्हे इन्साफ जरूर दें –

डायमंड बिल्डिंग मैं मालिक माकन को कोई भी किसी भी प्रकार की सुविधा नहीं मिलती है –

मुम्बई-नालासोपारा (प) – बिल्डिंग के बिल्डर फ़राज़ डांगे एंड ब्रदर्स जिन्होने 2012 में डायमंड अपार्टमेन्ट बिल्डिंग कॉन्ट्रस्ट किया था, लेकिन हम मालिक मकान को बहुत तकलीफ है, बिल्डिंग तो बिल्डर ने बना दी और लोगों को रहने के लिये रूम भी दे दिया, लेकिन आज तक उस बिल्डिंग मैं कुछ भी नियम के मुताबिक नहीं है, हम मालिक माकन की इस बिल्डिंग में आज तक किसी को कुछ भी बोलने या पूछने का अधिकार ही नहीं है, जो भी अधिकार और आदेश सिर्फ और सिर्फ बिल्डर को ही है, उसी की ही आजतक मन मानी चल रही है अगर कोई रूम मालिक बिल्डर से कंप्लेंट या जो भी तकलीफ है कंप्लेंट करता है तो वो व उसके लोग उन्हें मारने के लिये उतारू हो जाते हैं, बिल्डिंग से उनके रूम का इलेक्ट्रिक कनेक्शन और पानी का पाइप कनेक्शन कट कर देते हैं, और उन्हें मरने की धमकियाँ देते हैं, अगर कोई ज़ादा बोले तो बोलते हैं हमने बिल्डिंग बेच दी हैं अगर आपको तकलीफ है तो आप अपना रूम बेच कर जाओ, 2012 से ये लोग बिल्डिंग वालों से हर महीने रूपये 400/- मेन्टेन्स के नाम से वसूल करते थे। हर साल ये लोग मेन्टेन्स की रकम बढ़ाते जाते हैं, बढ़ाते-बढ़ाते बिल्डर ने तो रूपये -700/- तक कर दिया था पर बिल्डिंग में सभी लोग गरीब हैं और उन्हें कानून के बारे मैं कुछ भी पता नहीं है तो बिल्डर की आजिज़ी से तंग होकर हाथ पैर जोड़ने लगे, बिल्डर के गुंडा राज के आगे झुकने को मजबूर हैं, लोग बिल्डर से अपनी मजबूरी रोने लगे तो बिल्डर ने रुपये – 200/- कम कर दिया लेकिन आज भी बिल्डिंग का मेन्टेन्स के रूप में हर महीने रुपये . 500/- देना ही पड़ता है चाहे रूम भाड़े पर हो या रूम बंद हो पानी इस्तेमाल करो या न करो।

लाचार रूम मालिकों को मेन्टेन्स के नाम पर बिल्डर को पैसा देना ही पड़ता है, सभी मालिक माकन बिल्डर को पैसे देते ही है उस के बदले में बिल्डर बिल्डिंग वालों को पुरे साल Dange Brothers की अपनी खुदकी ज़मीन पर उन का अपना तालाब है जिस में उन्होंने एक पाइप डाल रखी हैं वो पाइप से मोटर के ज़रिए पानी खिंच कर डायमंड बिल्डिंग को पानी देते हैं वो भी हफ्ते में सिर्फ दो बार, वो पानी इतना गन्दा और बदबूदार होता है की लोग इस्तेमाल भी नहीं कर सकते हैं, उस पानी के इस्तेमाल से लोगों को चमड़ी की बीमारी हो गई लोग बीमार रहते हैं पीने के लिए उन्हें नगरपालिक के लगाए काफी दूर नल से पीने का पानी लाना पड़ता है या फिर वहां लोकल जो लोग पानी बेचते हैं वो पानी मजबूरन खरीदना ही पड़ता है, रूम बेचने के वक़्त लोगों को बोला गया था की 6 महिने में नगर पालिका से पीने का पानी आ जायेगा और बिल्डिंग के गेट के पास एक नगर पालिका के पानी की लाइन भी थी कहा गया था की आप लोग इस नल से पीने का पानी भरिये, जब सरे रूम बिकक गए तो कुछ दिन बाद वो पानी का नल भी बिल्डिंग के पास से निकल दिया गया।

आज 6 साल से लोग रह रहे हैं जबकि मनपा प्रशासन को भी प्रर्थना पत्र दिया गया लेकिन बिल्डिंग के रहवासी आज तक नगरपालिक से पानी आने का इन्तजार कर रहे हैं लेकिन अभी तक पानी नहीं आया न ही कोई कार्यवाही मनपा प्रशासन की तरफ से की गई, बिल्डर से पूछो तो कहता है की नगर पालिका पानी कनेक्शन नहीं दे रही है, बिल्डिंग मैं कॉमन पैसेज और दादर पर एक भी लाइट नहीं है, बिल्डिंग के अंदर जानवर आकर आराम करते हैं, कुछ भी साफ़ सफाई नहीं है, एक बार भी बिल्डिंग मैं कलर का काम नहीं हुवा आज बिल्डिंग की हालत इतनी ख़राब है की देखने पर लगता है की बिल्डिंग 15 से 20 साल पुरानी हो जबकि यह बिल्डिंग सिर्फ 6 साल पुरानी है, बिल्डिंग के ओनर्स को बिल्डर एक जुट होने नहीं देता है, कोई भी ओनर बिल्डर से बात नहीं कर सकता है, अगर कोई वृद्ध भी उससे बात करें तो उनसे बहुत बदतमीज़ी और गालयों से बात करता है. ओनर को मरने को दौड़ता है, किसी की भी इज्जत नहीं करता है, आखिर ये सब क्या है? बिल्डिंग मैं बिजली की भी सही से व्यवस्था नहीं है, बिजली विभाग अधिकारी से जब हमने पूछा तो वो कहते हैं की बिल्डिंग में जो बिजली का केबल आया है वो 80%जल चूका है इस वक़्त सिर्फ 20%केबल वर्क कर रहा है वो भी कभी भी जल सकता है.बिल्डिंग मैं बार बार लाइट जाती है।

– डायमंड बिल्डिंग से मैं हिना शैख़ 

Latest news

ना ही पक्ष ना ही विपक्ष, जनता के सवाल सबके समक्ष

spot_img
Related news

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Translate »