32 C
Mumbai
Thursday, December 8, 2022

आपका भरोसा ही, हमारी विश्वसनीयता !

दाऊद की प्रॉपर्टीज खरीदने वाले, मोदी के साथ आ चुके हैं नजर ।

मुंबई. अंडरवर्ल्ड डॉन दाऊद इब्राहिम की जब्त की गई तीनों प्रॉपर्टीज मंगलवार को नीलाम हो गई। मुंबई के सैफी SBUT बुरहानी ट्रस्ट ने दाऊद इब्राहिम की तीनों प्रॉपर्टीज को 11.5 करोड़ रुपए में खरीदा है। इनमें रौनक अफरोज होटल, डांबरवाला बिल्डिंग और शबनम गेस्ट हाउस शामिल है। आपको बता दें कि पिछली बार रौनक होटल के लिए एस बालाकृष्णन ने 4 करोड़ 28 लाख की बोली लगाई थी, लेकिन रकम नहीं चुका पाने की वजह से वह इसे खरीद नहीं पाए थे। SBUT ट्रस्‍ट में जो लोग शामिल हैं उनमें चेयरमैन शहजाद डॉ.क्‍वीदजोहर भाईसाहेब इजुद्दीन के अलावा वाइस चेयरमैन शहजाद अब्‍बास भाईसाहेब फकरुद्दीन और शहजाद ताहा भाईसाहेब नजमुद्दीन हैं। इस ट्रस्ट ने खरीदी दाऊद की तीनों प्रॉपर्टीज…

दाऊद का रौनक अफरोज होटल- 4.53 करोड़ रुपए में नीलाम हुआ है। वहीं डांबरवाला बिल्डिंग 3.53 करोड़ रुपए में और शबनम गेस्ट हाउस 3.52 करोड़ रुपए में नीलाम हुआ है। बुरहानी एपलिफ्टमेंट ट्रस्ट  के प्रवक्ता ने बताया कि ये तीनों प्रॉपर्टी हमारे भिंडी बाजार पुनर्विकास परियोजना के एरिया में ही आ रहे थे। यह ट्रस्ट भिंडी बाजार का कायाकल्प का काम पिछले कुछ सालों से कर रहा है। चर्चा है कि इस इलाके में आने वाली दाऊद ये तीन प्रॉपर्टीज इनके पुनर्विकास प्रोजेक्ट में बाधा बन रहे थे। इसलिए ट्रस्ट ने इन्हें खरीदा है।

इस प्रोजेक्ट के तहत भीड़भाड़ वाले भिंडी बाजार में हाईक्लास बिजनेस करने के लिए माहौल पैदा करने और यहां रहने वालों को आधुनिक सुविधाएं देना शामिल है।सैफी बुरहानी उत्थान ट्रस्ट बीसवीं शताब्दी के उत्तरार्द्ध में डॉ सैयदना और डॉ सैयदना ताहिर सैफुद्दीन (आरए) के संयुक्त प्रयास से खड़ा हुआ। ट्रस्ट के चेयरमैन  शाहजादा डॉ कैद जोहर ईजुद्दीन हैं। वे देश के कई बड़ी नामचीन हस्तियों से मुलाकत और उन्हें अपने प्रोजेक्ट के बारे में बता चुके हैं।

– डॉ कैद जोहर ईजुद्दीन ने लंदन यूनिवर्सिटी से बिजनेस एडमिनिस्ट्रेशन में डॉक्टरेट की डिग्री हासिल की है।

 देश की सबसे बड़ी शहरी पुनर्विकास परियोजना

– भिंडी बाजार पुनर्विकास परियोजना देश की सबसे बड़ी शहरी पुनर्विकास परियोजना है। भिंड़ी बाजार मुंबई का सबसे घनी आबादी वाले इलाकों में से एक है।
– इस इलाके पर कई फिल्में भी बनी हैं और इसको लेकर कई कहानियां भी हैं। यह अपनी तंग गलियों, भीड़-भाड़, कई अवैध धंधों के लिए मशहूर रहा है, उसका ज्यादातर हिस्सा इतिहास के पन्नों में और मुंबई के माफियाओं, भाई लोगों पर बनी फिल्मों में रह जाएगा।
– बुरहानी एपलिफ्टमेंट ट्रस्ट यहां कई आवासीय टावर बना रहा है। भिंड़ी बाजार के आधे से ज्यादा लोग अपने पुराने घर छोड़ चुके हैं और नए घरों के बनकर तैयार होने तक के लिए वैक्लपिक घरों में रह रहे हैं। इस परियोजना में 20 हजार लोगों को नए घर मिलेंगे।

2018 से मिलने शुरू हो जाएंगे नए घर

– भिंड़ी बाजार के लोगों के सहयोग से इस इलाके के मकान गिराने शुरू कर दिए गए हैं। बहुत से मकानों को गिरा दिया गया है और 1700 परिवार यहां से दूसरी जगह रहने लगे हैं। पहले टावर में 2018 में मकान मिलने शुरू हो जाएंगे।
– इस परियोजना में महाराष्ट्र हाउसिंग एंड एरिया डेवलपमेंट अथॉरिटी के साथ-साथ कई धार्मिक संगठन भी शामिल हैं।

बुरहानी ट्रस्ट पर भरोसा करते हैं यहां के लोग

– भिंडी बाजार में रहने वाली ज्यादातर आबादी मुसलमान है, ऐसे में सरकारी अथॉरिटी और बिल्डरों के लिए उन्हें भरोसे में लेना थोड़ा सा ज्यादा कठिन था। ऐसे में बोहरा मुस्लिम समुदाय के सैफी बुरहानी उत्थान ट्रस्ट ने अहम भूमिका निभाई।
– ट्रस्ट ने लोगों को भरोसा दिलाया और इसे एक परोपकारी काम बताया। कुछ लोग जो घरों को तोड़े जाने और इस परियोजना का विरोध कर रहे थे, उन्हें भी इस ट्रस्ट ने ही समझाया।

Latest news

ना ही पक्ष ना ही विपक्ष, जनता के सवाल सबके समक्ष

Related news

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here