25 C
Mumbai
Thursday, June 30, 2022

आपका भरोसा ही, हमारी विश्वसनीयता !

यूपी बोर्ड EXAM 2018: नकल विहीन परीक्षाओं के लिए शासन ने जारी की गाइडलाइन । —– श्रीभगवान कुशवाह

लखनऊ. माध्यमिक शिक्षा परिषद की तरफ से आयोजित साल 2018 की हाईस्कूल और इंटर की बोर्ड परीक्षाओं को नकलव‍िहीन बनाने और परीक्षा में पारदर्शिता लाने के लिए प्रदेश सरकार ने सभी स्कूलों के प्रिंसिपल और केंद्र व्यास्थापकों के लिए नई गाइडलाइन जारी कर दिया है। प्रिंसिपल और केंद्र व्यास्थापकों को निर्देश दिया गया है कि वे गाइडलाइन का कड़ाई से पालन कराए। लापरवाही पाए जाने पर कड़ी कार्रवाई की जाएगी।
शासन ने जारी किए हैं ये खास निर्देश
-एग्जामिनेशन रूम में सीसीटीवी कैमरे लगाए जाए।
-कॉपियों को गलत इस्तेमाल से बचाने के लिए जरूरत से ज्यादा कॉपियों पर मुहर न लगाई जाए।
-क्वेश्चन-आंसर्स की कॉपियों को स्टील की आलमारी या स्ट्रॉन्ग रूम में रखा जाए।
-सेंटर्स पर अग्निशमन यंत्र, पानी की बाल्टियां और रेत का अरेंजमेंट्स कम्पलसरी किया जाए।
-उपयोग में आने वाली कॉपियों पर कॉलेज की मुहर अवश्य लगाई जाए।
-सेंटर्स पर बिजली बाधित की स्थिति में जनरेटर अवश्य लगवाए जाए।
-एग्जाम के टाइम में सेंटर के अंदर परीक्षा से जुड़े व्यक्ति के अलावा बाहरी व्यक्ति के प्रवेश न होने दिया जाए।
-एग्जाम के टाइम सेंटर्स पर फोटोग्राफी को प्रतिन्धित किया जाए।
-जिन सेंटर्स पर छात्राएं एग्जाम देंगी, वहां पर महिला कक्ष निरीक्षकों की तैनाती की जाए।
-औचक निरीक्षण के लिए गठित सचल दस्ते में पुरुष की तरह महिला सदस्य को भी जरुर शामिल किया जाए।
-छात्राओं की चेकिंग महिला सदस्य ही करे। पुरुषों सदस्यों को छात्राओं की चेकिंग से रोका जाए।
-एक सीट पर दो से ज्यादा छात्रों को न बैठने दिया जाए। रूम के अंदर छोटे डेस्क को लगने से रोका जाए।
-सेंटर्स पर ड्यूटी करने वाले टीचर्स और स्टाफ के पास आधार कार्ड और आई कार्ड होना कम्पलसरी है।
-छात्र-छात्राओं को सेंटर्स पर प्रवेश पत्र के साथ आधार कार्ड और रजिस्ट्रेशन की कॉपी ले जाना कम्पलसरी है।
-परीक्षा केंद्र का रूट प्लान शिक्षा विभाग को उपलब्ध कराया जाए।
-वाहन से एग्जाम देने आने वाले छात्र-छात्राओं के पार्किंग की व्यवस्था सुनिश्चित की जाए।

क्या कहते हैं अध‍िकारी—-
-लखनऊ के ड‍िस्ट्र‍िक इंस्पेक्टर ऑफ स्कूल (डीआईओएस) मुकेश कुमार सिंह के मुताबिक, शासन ने बोर्ड परीक्षा को नकलविहीन बनाने के लिए नई गाइडलाइन जारी कर दिया है।
-सभी स्कूलों के प्रिंसिपल और केंद्र व्यास्थापकों को गाइडलाइन का पालन सुनिश्चित कराने के निर्देश दिए गए हैं। आदेश का पालन न कराने वाले प्रिंसिपल और केंद्र व्यास्थापकों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी।

बोर्ड परीक्षाओं के लिए 1.50 लाख ए कापियां आईं
मथुरा– बोर्ड परीक्षा के लिए कापियां आनी शुरू हो गई हैं। अब तक 1.50 लाख ए कापियां आ चुकी हैं। इन्हें जीआईसी मथुरा में रखवाया गया है।
माध्यमिक शिक्षा परिषद की बोर्ड परीक्षाए 6 फरवरी 2018 में शुरू होकर 10 मार्च तक चलेंगी। हाईस्कूल परीक्षा 14 कार्य दिवस में पूरी हो जाएंगी, वहीं इंटरमीडिएट परीक्षाएं 25 कार्य दिवस में पूर्ण होंगी। परीक्षाओं में करीब 1,16,013 लाख परीक्षार्थी बैठेंगे। इनमें हाईस्कूल के 60,074 और इंटरमीडियेट के 55,939 बच्चे शामिल हैं। जीआईसी मथुरा के प्रधानाचार्य संतोष कुमार सारस्वत ने बताया कि बोर्ड से परीक्षाओं के लिए कापियों का आना शुरू हो गया है। करीब 1.50 लाख ए कापियां आ चुकी हैं। इन्हें जीआईसी विद्यालय में सुरक्षित रखवा दिया गया है। अभी और कापियां आनी शेष हैं। उन्होंने बताया कि परीक्षार्थियों की संख्या के हिसाब से करीब 5 लाख से अधिक ए कापियां जनपद को प्राप्त होनी हैं। ढाई से तीन लाख बी कापियां भी आनी हैं।

परीक्षा केंद्र बनाया 90 किमी दूर, छात्र परेशान
बैरिया (बलिया): जिला विद्यालय निरीक्षक कार्यालय के कतिपय लिपिकों की मनमानी के कारण लालझरी देवी इंटर कालेज सीताराम नगर शोभाछपरा के बोर्ड परीक्षा का केंद्र 90 किमी दूर बना देने से सैकड़ों परीक्षार्थी परेशानी में पड़ गए हैं।
उनके विद्यालय से 90 किमी दूर परीक्षा केंद्र गढ़मलपुर सहुलाई में बना दिया गया है जिससे छात्र इसी पशोपेश में पड़े हैं कि इतनी दूर कैसे जाकर परीक्षा देंगे। उक्त सेंटर इस विद्यालय से लगभग 90 किमी दूर है जबकि नियमानुसार 10 किमी के भीतर ही परीक्षा केंद्र बनाया जाना है। अभिभावकों का आरोप है कि जिला विद्यालय निरीक्षक कार्यालय में परीक्षा केंद्र निर्धारण के नाम पर जबर्दस्त खेल हुआ है। अभिभावकों ने जिलाधिकारी का ध्यान आकृष्ट कराते हुए तत्काल उचित कार्रवाई की मांग की है। छात्रों ने चेताया है कि यदि एक सप्ताह के भीतर उनका परीक्षा केंद्र मानक के अनुरूप बदला नहीं गया तो वे सामूहिक रूप से जिलाधिकारी के आवास के सामने धरना पर बैठेंगे।

पुलिस अभिरक्षा में संकलन केंद्र लाई जाएंगी बोर्ड की कॉपियां —डिप्टी सीएम
यूपी बोर्ड की हाईस्कूल और इंटरमीडिएट परीक्षा के दौरान लिखी उत्तर पुस्तिकाएं अब सेंटरों से संकलन केंद्र तक पुलिस अभिरक्षा में लाई जाएंगी। सेंटरों पर लगे सीसीटीवी कैमरों की रिकार्डिंग कंट्रोल रूम भेजी जाएंगी जहां प्रतिदिन इसे देखा जाएगा। नकल रोकने के लिए हर कक्ष में सीसीटीवी कैमरा होना आवश्यक है। उप मुख्यमंत्री और शिक्षा मंत्री दिनेश शर्मा ने शनिवार को औरैया में जिला विद्यालय निरीक्षकों के साथ बैठक की। इस दौरान उन्होंने बोर्ड परीक्षा में नकल रोकने के लिए दिशा निर्देश दिए। जो नई व्यवस्थाएं की जा रही हैं उसके बारे में जानकारी दी। संकलन केंद्र तक यूं आएंगी कॉपियां : शिक्षा मंत्री ने कहा कि सेंटर पर परीक्षा खत्म होने के बाद शिक्षा विभाग का एक सदस्य पुलिस अभिरक्षा में कॉपियों को लाएगा। जहां संकलन केंद्र होगा वहां भी सीसीटीवी कैमरे लगाए जाएंगे। यहां दोनों की उपस्थिति में ही कॉपी जमा हो सकेगी। यही नहीं सेंटर की दूरी को दृष्टिगत रखते हुए समय पर भी निगाह रखी जाएगी। ऐसा नहीं होगा कि कॉपी सुबह की पाली की थी और शाम की पाली में पहुंच रही है। हाईटेक सेंटर कंट्रोल रूम : शिक्षा मंत्री ने बताया कि हर जनपद में एक हाईटेक सेंटर कंट्रोल रूम स्थापित किया जाएगा। इस सेंटर पर विशेषज्ञ मौजूद रहेंगे। हर परीक्षा केंद्र पर सीसीटीवी कैमरों की रिकार्डिंग होगी। इस रिकार्डिंग को कंट्रोल रूम लाया जाएगा। इसकी रोज मॉनीटरिंग होगी। इसके अतिरिक्त उड़न दस्ते भी निगरानी करेंगे। जीरो टॉलरेंस की नीति : शिक्षा मंत्री ने कहा कि नकल रोकने के लिए जीरो टॉलरेंस नीति अपनाई जाएगी। सेंटरों पर कोई भी बाहरी व्यक्ति नहीं जा सकेगा। नकल होने पर छात्र और कक्ष निरीक्षक के खिलाफ नियमानुसार कार्रवाई होगी। इसका पूरा शेड्यूल तैयार हो गया है। कॉपियां खास रहेंगी : नकल रोकने के लिए खास कॉपियां इस्तेमाल की जा रही हैं। यह कोडेड कॉपियां हैं। हर कॉपी का विशेष नंबर होगा। केंद्रों पर सीधे बोर्ड से भी उड़न दस्ते पहुंच सकते हैं। जिला विद्यालय निरीक्षक सतीश कुमार तिवारी ने बताया कि परीक्षा की तैयारियां अब तेजी से शुरू हो सकेंगी।

Latest news

ना ही पक्ष ना ही विपक्ष, जनता के सवाल सबके समक्ष

Related news

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here