28 C
Mumbai
Saturday, July 2, 2022

आपका भरोसा ही, हमारी विश्वसनीयता !

बीएलओ की ड्यूटी से नही मिली मुक्ति तो बेसिक शिक्षक जाएंगे कोर्ट ,राजकीय सम्मान के साथ हुआ लोकतंत्र सेनानी का अंतिम संस्कार।———————चैतन्य नारायण।

IMG-20180525-WA0233IMG-20180525-WA0185बाराबंकी ———
1—–बेसिक शिक्षकों ने बीएलओ की ड्यूटी लगाए जाने के विरोध में उप जिलाधिकारी रामनारायण यादव को ज्ञापन दिया जिसमें दर्शाया गया है कि बेसिक शिक्षकों को बीएलओ एवं पदाभिहित ड्यूटी में लगाना शासन व न्यायालय के आदेशों का उल्लंघन है इसी के साथ यह भी बताया कि 21-05 18 के आदेश के अनुपालन में 25-05-18 के प्रशिक्षण के दौरान कोई भी बूथ लेवल ऑफिसर अनुपस्थित होने पर उस ऑफिसर के विरुद्ध दंडात्मक कार्यवाही की धमकी भी दी गई है जो सर्वथा अनुचित है यदि बेसिक शिक्षकों को बीएलओ ड्यूटी से मुक्त नहीं किया गया तो शिक्षक आंदोलन के साथ ही उच्च न्यायालय की शरण में जाने के लिए बाध्य होंगे वहीं कुछ शिक्षकों में इस बात का रोष है की जिन अध्यापकों ने अकेले वर्ष भर कार्य किया वर्ष भर के बाद मिलने वाली ग्रीष्मकालीन छुट्टियों में फिर इन्हीं को सेवा में लिया जा रहा है। ज्ञापन देते समय रामचंद्र वर्मा, राजीव वर्मा, छविराम, नितेश त्रिपाठी, दीपक वर्मा, विजय वर्मा, आरती वर्मा, लता, बजरंग, तेज सिंह, रुद्र प्रताप सिंह, प्रतीक श्रीवास्तव, धर्मेंद्र आदि शिक्षक उपस्थित रहे,

 

2—       बाराबंकी————-

राजकीय सम्मान के साथ किया गया लोकतंत्र
सेनानी का अंतिम संस्कार
मसौली बाराबंकी। ग्राम पंचायत सादामऊ निवासी 65 वर्षीय लोकतंत्र रक्षक सेनानी अम्बिका प्रसाद की बीमारी के दौरान हुई  मौत के बाद उनका अंतिम संस्कार पूरे राजकीय सम्मान के साथ किया गया। गारद द्वारा मातमी धुन बजाकर उन्हें अंतिम विदाई व दो मिनट का मौन रख श्रद्धांजलि दी गई।

25  जून 1975 में तत्कालीन प्रधानमंत्री स्व0 इन्दिरा गांधी की सत्ता के दौरान देश मे लागू हुए आपातकालीन इमरजेंसी में जेल भेजने के क्रम में  मसौली थानाक्षेत्र के ग्राम सादामऊ निवासी अम्बिका प्रसाद पुत्र रघुनाथ प्रसाद को 9 दिसम्बर 1976 को गिरफ्तार कर डीआईआर एव मीसा के तहत बाराबंकी जेल भेजा गया था एक सप्ताह बाद अम्बिका प्रसाद को बाराबंकी जेल से फैजाबाद जेल भेज दिया गया था। तीन माह बाद 23 फरवरी को जेल से रिहा किया गया था। गुरुवार को 65 वर्षीय लोकतंत्र रक्षक सेनानी अम्बिका प्रसाद का निधन हो गया स्व0 अम्बिका प्रसाद अस्थमा से पीड़ित थे। श्री प्रसाद के एक मात्र पुत्र दिग्विजय सिंह है तथा पत्नी जीवित है।

 

शुक्रवार को क्षेत्रीय विधायक उपेंद्र सिंह रावत, तहसीलदार चन्द्रप्रकाश पाठक,थानाध्यक्ष विवेक कुमार सिंह ने राष्ट्रीय ध्वज डालकर पुष्प अर्पित किया श्रद्धाजलि अर्पित की। मातमी धुन पर पुलिस के जवानों ने लोकतंत्र रक्षक सेनानी को सलामी दी गयी।

इस मौके पर जिला पंचायत सदस्य डॉ0 उमासरन वर्मा,ग्राम प्रधान प्रेमकिशोर वर्मा,पुत्तन वर्मा विक्रमाजीत यादव सहित बाबा जयगुरुदेव के भक्त व ग्रामीण मौजूद थे।

 

 

Latest news

ना ही पक्ष ना ही विपक्ष, जनता के सवाल सबके समक्ष

Related news

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here