25 C
Mumbai
Thursday, June 30, 2022

आपका भरोसा ही, हमारी विश्वसनीयता !

4 करोड़ दहेज मांगने वाला फर्जी IAS, लड़की पक्ष के सूझबूझ के चलते, चढ़ा आगरा पुलिस के हत्थे ! —- रिपोर्ट – पीके लोधी

आगरा में फर्जी IAS बन 4 करोड़ दहेज मांगने वाले युवक ने खोले राज पुलिस रह गयी दंग ,,,,,फर्जी IAS के फ्रैंड लिस्ट में थे 12 असली IAS अफसर…

https://manvadhikarabhivyakti.com/wp-content/uploads/2018/05/img_20180529_134443.jpg

आगरा – आगरा  यूपी पुलिस एक ऐसे फर्जी IAS अफसर को गिरफ्तार किया है, जिसके कारनामे सुनेंगे, तो आपके भी सर चकरा जायेंगे। फर्जी IAS मंजीत राज खुद को पुदुचेरी के उपराज्यपाल का ओएसडी बताता था। शादी के लिए 12 असली IAS अफसरों को न्योता देना वाला ये फर्जी IAS इन अधिकारियों के संपर्क में पिछले तीन साल से है। खुद के रिंग सेरेमनी में भी वो उन्हें बुलाना चाहता था लेकिन सब कुछ आननफानन में होने के कारण नहीं बुला पाया। इनमें डीएम, कमिश्नर, एसएसपी स्तर के अधिकारी भी हैं। फर्जी आइएएस अधिकारी ने खुद को पांडिचेरी के लेफ्टिनेंट गवर्नर का ओएसडी बताकर परिजनों को रिश्ता तय कर लिया। कल रात को न्यू आगरा सगाई करने आये फर्जी आइएएस अफसर की असलियत पता चलने पर लड़की के परिवार के लोगों ने पुलिस को बुला लिया। आधी रात तक चली पूछताछ के बाद शातिर ने खुद के फर्जी आईएएस अफसर होने की बात कबूल की। फर्जी आईएएस ने अपनी शादी के लिए 4 करोड़ रुपये दहेज के मांगे थे।

Contact Now

https://manvadhikarabhivyakti.com/wp-content/uploads/2018/05/img_20180528_164636.jpg

हैरानी की बात यह है कि इतने बड़े अधिकारियों की आंखों में वह धूल झोंकता रहा और उन्हें उस पर शक नहीं हुआ। वह खुद को 2004 का आईएएस आफिसर बताता था। पुलिस सूत्रों ने बताया कि वह अधिकारी से मिलते समय कई बातों का ख्याल रखता था। ज्यादातर अधिकारियों की तैनाती के बारे में बात करता था। पंडुचेरी के बारे में उसने काफी जानकारी जुटा रखी थी। इसके बारे में बताता था। अफसरों को पुदुचेरी आने का न्योता देता था। मंजीत राज ने 2014 के बैच के अधिकारियों के नाम रट रखे थे। उनके बारे में यह भी मालूम रखता था कि किसकी तैनाती कहां पर है? वह 2010 से 2016 तक के बैच के कई अधिकारियों के नाम बातचीत के दौरान लेता था। इससे सामने वाला आसानी से उसकी बातों पर यकीन कर लेता था। वह जहां भी घूमने के लिए जाता था, पहले वहां के अधिकारियों को फोन करता था। अपने लिए फाइव स्टार होटल में कमरे का इंतजाम कराता था। अधिकारी उसे ओएसडी मानकर उसके लिए मुफ्त कमरे का इंतजाम करते थे। वह फतेहपुर सीकरी में बुलंद दरवाजा देखने के लिए गया था। इस दौरान उसे सुरक्षा मुहैया कराई गई थी। उसने यह नहीं बताया कि यह सुरक्षा किस अधिकारी ने दिलाई थी। सिर्फ इतना कहा कि उसके बहुत दोस्त हैं, किस किसका नाम ले।

Latest news

ना ही पक्ष ना ही विपक्ष, जनता के सवाल सबके समक्ष

Related news

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here