31 C
Mumbai
Thursday, December 1, 2022

आपका भरोसा ही, हमारी विश्वसनीयता !

CSJMU: 22 परीक्षा केंद्र नकल के दोषी, निरस्त होगी परीक्षाएं।

रिपोर्ट-विपिन निगम

कानपुर(यूपी): छत्रपति शाहू जी महाराज विश्वविद्यालय की वार्षिक परीक्षा में 22 परीक्षा केंद्र नकल के दोषी मिले हैं। इन केंद्रों पर करीब 50 कॉलेजों की परीक्षाएं हुई थी। इन सभी परीक्षा केंद्रों को अगले तीन वर्षों के लिए डिबार कर दिया गया है। यह फैसला परीक्षा समिति में हुआ। साथ ही, जिन विषयों में नकल की पुष्टि हुई है, वे सभी परीक्षाएं निरस्त कर दी जाएंगी। नकल में दोषी मिले सबसे अधिक कॉलेज उन्नाव के हैं।

छत्रपति शाहू जी महाराज विश्वविद्यालय (सीएसजेएमयू) के सेंटर फॉर एकेडमिक्स में सोमवार को परीक्षा समिति की बैठक हुई। विवि की कुलपति प्रो. नीलिमा गुप्ता की अध्यक्षता में परीक्षा से जुड़े विभिन्न मुद्दे रखे गए। पिछली बैठकों में लिए गए निर्णयों पर अंतिम मुहर लग गई। जबकि 44 कॉलेजों पर लगे नकल के आरोप में मंथन किया गया। यूएफएम कमेटी की रिपोर्ट में 22 कॉलेजों को नकल के दोष से मुक्त कर दिया गया। जबकि 22 कॉलेजों पर नकल का आरोप सिद्ध हो गया है। इसमें उन्नाव के सात कॉलेज, कन्नौज के पांच कॉलेज, कानपुर देहात के तीन कॉलेज, इटावा के तीन कॉलेज, हरदोई, औरैया व कानपुर नगर का एक-एक कॉलेज शामिल है। विवि के रजिस्ट्रार ने डॉ. विनोद कुमार सिंह ने बताया कि इन कॉलेजों में जिन विषयों में नकल की पुष्टि हुई है, उन्हें निरस्त कर दोबारा कराया जाएगा। ये परीक्षा सरकारी व अनुदानित महाविद्यालयों में संपन्न होगी। जल्द इसकी तिथि घोषित की जाएगी। वहीं जो कॉलेज नकल के आरोप से बरी हो गए हैं, उनका रिजल्ट जल्द से जल्द घोषित करने का फैसला लिया गया है।
बैठक में बीए-एलएलबी में कॉपी फाड़ने का मुद्दा भी गंभीरता से रखा गया। गया प्रसाद महाविद्यालय, शिवराजपुर के छात्रों का केंद्र गोविंद प्रसाद रानी देवी पटेल महाविद्यालय, अरौल में पड़ा था। परीक्षा के बाद कॉपियां विवि पहुंची। कोडिंग के दौरान कॉलेज की चार कॉपियों के पेज फटे हुए मिले थे। इससे मामला संदिग्ध प्रतीत हो रहा था। बैठक में इस मामले में कमेटी बनाकर जांच का निर्देश दिया गया है। साथ ही केंद्र के केंद्राध्यक्ष से आख्या मांगी गई है। बैठक में बहुविकल्पीय प्रश्नपत्रों को लेकर भी चर्चा हुई। फैसला हुआ कि विवि प्रशासन इस बार छात्रों को बहुविकल्पीय प्रश्नपत्रों की जानकारी पहले ही दे देगा। बैठक में परीक्षा नियंत्रक डॉ. अनिल यादव, डिप्टी रजिस्ट्रार एसएल पाल, सिस्टम मैनेजर डॉ. सरोज द्विवेदी, यूएफएम के चेयरमैन प्रो. संजय कुमार स्वर्णकार, डीएसडब्ल्यू डॉ. अंशू यादव, कूटा के अध्यक्ष डॉ. बीडी पांडेय, महामंत्री डॉ. अवधेश सिंह आदि मौजूद रहे।
ये कॉलेज मिले नकल के दोषी, होंगे डिबार
पं. केदारनाथ महिला महाविद्यालय, बकेवर-इटावा
एसएस महाविद्यालय, रूदा मऊ-हरदोई
महेश सिंह जेएसएस महाविद्यालय, वकतुखेरा-उन्नाव
गौतम बुद्ध बालिका महाविद्यालय, कन्नौज
श्री कैलाश नाथ कटियार कॉलेज, सिकंदरा, कानपुर देहात
छत्रपति शिवाजी महाविद्यालय, सिकंदरा, कानपुर देहात
पं. त्रियुगी नारायण महाविद्यालय, मंगलपुर, कानपुर देहात
प्यारे लाल महाविद्यालय, अरौल कानपुर नगर
काका भुखन सिंह गया बक्स सिंह कॉलेज, उन्नाव
चौधरी मोहर सिंह महाविद्यालय, बरियामऊ, कन्नौज
चौ. जमादार सिंह महिला डिग्री कॉलेज, सौरिख, कन्नौज
आशा देवी बालिका महाविद्यालय, सौरिख, कन्नौज
चौ. जेएसएसएस महाविद्यालय, कलसेन, कन्नौज
श्री ठाकुर जी महाराज महाविद्यालय, सफीपुर-उन्नाव
श्री सोबरन सिंह महाविद्यालय, बकेवर, इटावा
श्री हरिश्चंद्र तिवारी महाविद्यालय, आनेपुर, महेवा, इटावा
काशी ब्राइट एंजल डिग्री कॉलेज, रायबरेली
चौ. हरिराम महिला महाविद्यालय, भाग्यनगर, औरैया
चौधरी खजान सिंह महाविद्यालय, जूराखान-उन्नाव
सतगुरु डिग्री कॉलेज, धानीखेरा, उन्नाव
चौधरी महादेव प्रसाद महाविद्यालय, पालेपुर, उन्नाव
एमजी कॉलेज ऑफ साइंस आर्ट्स एंड कल्चर, उन्नाव आदि संसथान शामिल हैं।

Latest news

ना ही पक्ष ना ही विपक्ष, जनता के सवाल सबके समक्ष

Related news

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here