28 C
Mumbai
Thursday, September 29, 2022

आपका भरोसा ही, हमारी विश्वसनीयता !

सीएम उद्धव ठाकरे कोरोना को लेकर गंभीर, ‘नो मास्क, नो एंट्री’ लागू , “अब जनता तय करे कि उन्हें मास्क लगाना है या फिर लॉकडाउन”

मुंबई – कोरोनाकाल के दौर को भांपते हुए महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने कोरोना को लेकर लोगों को ढिलाई न बरतने का जनता से आग्रह किया साथ ही कई बातों पर अपना पक्ष रखा एवं धर्मस्थलों को खोलने पर भी अपनी राय व्यक्त की, साथ ही कुछ लोग कहते हैं कि यह खुला, वह खुला, तो धर्मस्थल क्यूं नहीं, मेरी जिम्मेदारी है सभी की, कई त्योहार आ रहे हैं घर में समृद्धि आनी चाहिए, मुश्किल नहीं. जल्दबाजी में मंदिर खोलने का निर्णय नहीं लेंगें. धीरे धीरे मंदिर खोला जाएगा।

वहीं लोकल की संख्या बढ़ाने बात कही, उन्होने कहा इसकी संख्या भी बढ़ाई जाएगी उसके बाद ज्यादा से ज्यादा लोगों को प्रवास करने दिया जाएगा, महाराष्ट्र में रेलवे सेवा शुरू की गई, लेकिन मास्क हमारा ब्लैक बेल्ट है जो वायरल को रोकने के लिये बेहद जरूरी, लेकिन फिर से लॉकडॉउन की नौबत नहीं लाई जानी चाहिये, विदेशों में एक बार फिर कई जगह लॉकडाउन लागा गया है, हम ‘नो मास्क, नो एंट्री’ हर जगह लागू कर रहें हैं, अब जनता तय करे कि उन्हें मास्क लगाना है या फिर लॉकडाउन लगाना चाहते हैं।

उद्धव ठाकरे ने कोरोना को बाहर से आया हुआ एक मेहमान रूप में बताया, जो हमरे घर में घुस गया है और सबको परेशान करके रख दिया है, हम सब पूछ रहे हैं कब जाएगा यह मेहमान, आज भी परिस्थिति पहले जैसी ही है. मुझे आप सभी लोगों की चिन्ता है, इसलिए आप सभी लोगों से संवाद करने के लिये फिर सामने आया हूं, क्योंकि मैं भी आप ही के परिवार के एक सदस्य हूं, कोरोना एक ऐसे मेहमान की तरह है, जो बाहर देश से आया है, लाख कोशिसों के बावजूद चले जाने को कहने पर भी कोरोना बाहर जाने को तैयार नहीं है।

Latest news

ना ही पक्ष ना ही विपक्ष, जनता के सवाल सबके समक्ष

Related news

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here