28 C
Mumbai
Tuesday, September 27, 2022

आपका भरोसा ही, हमारी विश्वसनीयता !

पुलिस व स्वास्थ्य विभाग की लापरवाही: 48 घंटे बाद भी नही हो सका दुष्कर्म पीड़िता का मेडिकल

कन्नौज (यूपी) पुलिस व स्वास्थ्य विभाग की लापरवाही के चलते तिर्वा कस्बे में सामूहिक दुष्कर्म की शिकार युवती का पूरा मेडिकल परीक्षण नहीं हो सका। घटना को 48 घंटे बीत चुके हैं। दो दिन से वह पुलिस कर्मियों के साथ मेडिकल परीक्षण के लिए जिला अस्पताल आ रही है। सोमवार को अल्ट्रासाउंड न हो पाने की वजह से मंगलवार को फिर उसे लाया जाएगा। इसके बाद ही मजिस्ट्रेट के सामने पुलिस उसे ले जाकर बयान कराएगी। 
तिर्वा निवासी 20 वर्षीय युवती के साथ दोस्त अमन खान पुत्र जुल्फिकार अली और आमिन पुत्र बबलू रंगरेज ने शनिवार रात करीब नौ बजे दुष्कर्म किया था। रात लगभग 11 बजे पुलिस ने मुकदमा दर्ज कर देर रात दो बजे आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया था। किंतु लगभग 48 घंटे बाद भी पीड़ित युवती का मेडिकल परीक्षण नहीं हो पाया है। 
महिला चिकित्सक के इंतजार में रविवार को पूरा दिन पीड़िता को जिला अस्पताल में बैठाए रखा गया। सोमवार को फिर उसे अस्पताल लाया गया। महिला चिकित्सक ने मेडिकल परीक्षण कर स्लाइड बनाई। एक्सरा कराया गया, लेकिन अल्ट्रासाउंड नहीं हो पाया। तिर्वा पुलिस उसे लौटा लाई। कोतवाली प्रभारी इंद्रपाल सरोज का कहना था कि पीड़िता ने दोपहर को खाना खा लिया था इस कारण चिकित्सक ने अल्ट्रासाउंड करने से मना कर दिया। मंगलवार को अल्ट्रासाउंड कराया जाएगा। इसके बाद मजिस्ट्रेट के समक्ष बयान दर्ज कराने के लिए कोर्ट में पेश किया जाएगा। 
जिला अस्पताल के सीएमएस डा. शक्ति बसु ने बताया कि सोमवार को पुलिस पीड़िता को देरी से लाई थी। मेडिकल परीक्षण के बाद कुछ खाना खा लिया था। अल्ट्रासाउंड की रिपोर्ट प्रभावित होने की आशंका के कारण उसे मंगलवार को बुलाया गया है। एएसपी विनोद कुमार ने बताया कि पीड़िता का मेडिकल परीक्षण करा दिया गया है। किसी कारण अल्ट्रासाउंड नहीं हो पाया है। 

वारदात के बाद से कस्बा में तनाव देखते हुए पीड़िता के घर और प्रमुख स्थानों पर पुलिस के साथ पीएसी बल तैनात कर दिया गया था। सोमवार को पीड़िता के घर से और प्रमुख स्थानों से पुलिस हटा ली गई है। पुलिस टीम के हटने के बाद सोमवार को कई लोग पीड़िता के घर पहुंचे। प्रमुख स्थानों पर भी लोग सामूहिक दुष्कर्म की चर्चाएं करते देखे गए। 
चौबीस घंटे में पीड़िता का होना चाहिए मेडिकल परीक्षण
कन्नौज। जिला कोर्ट के शासकीय अधिवक्ता मोहम्मद सालिम ने बताया कि दुष्कर्म के बाद 24 घंटे के अंदर पीड़िता का मेडिकल परीक्षण हो जाना चाहिए। देरी से हुए मेडिकल परीक्षण में आरोपियों को कुछ हद तक राहत मिल जाती है, लेकिन दुष्कर्म के मामलों में पीड़िता के बयानों को ही साक्ष्य के रूप में माना जाता है। इससे बयानों के आधार पर ही आगे की कार्यवाही होगी।

Latest news

ना ही पक्ष ना ही विपक्ष, जनता के सवाल सबके समक्ष

Related news

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here