लखनऊ : बहुजन समाज पार्टी के विधायकों ने अपने ही प्रत्याशी के खिलाफ बगावत कर दी है. विधायकों ने प्रस्तावक से अपना नाम वापस लेने की बात कही है. इसके चलते राज्यसभा उम्मीदवार राम जी गौतम का पर्चा खारिज हो सकता है साथ ही अब राज्यसभा चुनाव निर्विरोध संपन्न हो सकता है.

पार्टी प्रत्याशी का विरोध
बसपा के विधायक असलम राईनी, हकीम लाल बिंद, हरि गोविंद भार्गव, मुस्तफा सिद्दीकी और असलम अली ने बगावत की है. इन्होंने बसपा प्रत्याशी रामजी गौतम का विरोध जताया है. इन्होंने प्रकाश बजाज के लिए खरीद फरोख्त का आरोप लगाया है.

दिलचस्प हुआ राज्यसभा चुनाव
ऐसे में अब उत्तर प्रदेश का राज्यसभा चुनाव और दिलचस्प हो चुका है. कल होने वाली वोटिंग से पहले समाजवादी पार्टी, कांग्रेस, बहुजन समाज पार्टी और भारतीय जनता पार्टी में बैठकों का दौर जारी है. आज कांग्रेस-बीएसपी ने विधायकों को लंच पर बुलाया हुआ था.

क्रास वोटिंग की आशंका
उम्मीदवारों के लिए समर्थन जुटाने में सबसे अधिक पसीने उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव को बहाने पड़ रहे हैं. दरअसल उनके ऊपर बहुजन समाज पार्टी के उम्मीदवार भीमराव अम्बेडकर को भी जिताने की जिम्मेदारी है। बीजेपी ने नौ उम्मीदवार उतारकर विपक्षी दलों की मुश्किलें बढ़ा दी है। चुनाव में क्रॉस वोटिंग की आशंका है।