पटना : बिहार विधानसभा चुनाव में दूसरे चरण के तहत जिन 94 सीटों पर 3 नवंबर को मतदान होना है, वहां रविवार शाम चुनाव प्रचार का शोर थम गया. चुनाव प्रचार का कल आखिरी दिन था. दूसरे चरण में राज्य के 94 सीटों पर होने जा रहे मतदान में एक ओर जहां एनडीए (भाजपा+जदयू+हम+वीआईपी) के कई मंत्रियों की साख दांव पर है, वहीं राजद के नेता तेजस्वी और तेजप्रताप के किस्मत का फैसला भी इसी चरण के चुनाव में होगा. चुनाव प्रचार के अंतिम दिन होने के कारण कल सभी दलों ने पूरी ताकत झोंक दी थी.

1463 उम्मीदवारों की किस्मत का होगा फैसला
17 जिलों के जिन 94 सीटों पर मतदान होना है, वहां मतदाता कुल 1463 उम्मीदवारों की किस्मत का फैसला करेंगे. दूसरे चरण में कुल 1316 पुरुष उम्मीदवार, 146 महिला और एक किन्नर उम्मीदवार चुनाव मैदान में हैं. आज चुनाव प्रचार खत्म होने के बाद इन सीटों पर उम्मीदवार केवल व्यक्तिगत जनसंपर्क ही कर पाएंगे. किसी भी तरह की चुनावी सभा और प्रचार पर रोक रहेगी.

यह दिग्गज है लड़ाई में शामिल
दूसरे चरण में जिन दिग्गजों की किस्मत का फैसला होना है उनमें बिहार सरकार के मंत्री और भाजपा नेता नंदकिशोर यादव, मंत्री राणा रणधीर सिंह के साथ-साथ जदयू नेता और मंत्री श्रवण कुमार मंत्री रामसेवक सिंह शामिल हैं. इनके अलावा पटना की सभी शहरी सीटों पर भी 3 नवंबर को ही मत डाले जायेंगे. नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव की किस्मत का फैसला भी इसी चरण में होना है साथ ही साथ उनके बड़े भाई तेजप्रताप यादव भी हसनपुर से चुनाव लड़ रहे हैं. दूसरे चरण में जदयू के 43, भाजपा के 46, कांग्रेस के 24, राजद के 56, लोजपा के 52, रालोसपा के 36, भाकपा के 4, माकपा के 4, बीएसपी के 33 और राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी के 29 उम्मीदवारों की किस्मत तय होगी.