-रवि जी. निगम

सामाजिक कार्यकर्ता – संपादक

तो PM मोदी को ये कौन से विस्वस्त सूत्र हैं जो NDA की सरकार बनाने / बनने के लिये आश्वस्त कर रहा है ? क्योंकि वोटिंग के दौरान इसकी सूचना कहाँ से उपलब्ध होती हैं ? क्या EVM बाबा के रिकॉर्ड की जानकारी चुनाव आयोग के अलावा और कोई दूसरा भी रखता है ? तो क्या वही विस्वस्त सूत्रों से ही खबर प्रधानमंत्री को उपलब्ध कराई जा रही है ?

बिहार – फारबिसगंज में सभा को सम्बोधित करते हुए PM मोदी बोले आज बिहार में दूसरे चरण के मतदान हो रहे हैं, बिहार की जनता भारी मतदान कर रही है विस्वस्त सूत्रों से पता चला है कि दूसरे चरण में अभी तक भारी मतदान हो चुका है जो इससे पहले हुए मतदान से ज्यादा मतदान होने का रिकार्ड है इससे पता चलता है कि बिहार की जनता वापस NDA की सरकार बनाने जा रही है।

अब सवाल तो ये उठ खडा हो रहा है कि जब मीडिया खुद लाइव दिखा रही है कि 11 बजे तक मात्र 8.14 प्रतिशत ही मतदान हुआ है, जिसको लेकर चैनल पर चर्चायें तक हो रही हैं कि ये सुस्त मतदान होने का कारण क्या है लोग कारण तलासने की कोशिस कर रहे हैं, जिसमें ये अनुमान लगाया जा रहा है कि क्या कोरोना की वजह से लोग बाहर नहीं निकल रहे हैं, या उदासीनता के कारण नहीं आ रहे हैं ? जबकि पहले दौर में लगभग 55% मतदान हुआ था, लेकिन अब कोरोना के ढाल का इस्तेमाल भी प्रवक्ता कर रहे हैं।

इसके अलावा प्रधानमंत्री बोले की इससे पहले जनता के आधिकारों को उनसे छीन लिया जाता था, वोटर को मतदान केंद्र तक वोट डालने जाने से पहले वोट डाल दिये जाते थे, पोलिंग बूथ पर कब्जा कर लिया जाता था, लेकिन अब वो सब होने नहीं दिया जा रहा है, वहीं इसके उलट बिहार की जनता तो छोड दीजिये बिहार भाजपा के कार्यकर्ताओं को साफ-साफ कहते सुना गया है वो बिहार में नितिश किसी भी हाल में नहीं आने देंगे, तो इसका क्या मतलब लगाया जाये ? जबकि वहीं दूसरी तरफ बिहार की जनता RJD+ की रैलियों में खूब भारी संख्या में जुट रही है और उनकी सरकार बनाने का दावा करते देखी जा रही है, तो ये क्या दर्शाती है ? ये तो परिणाम के आने के बाद ही ज्ञात होगा कि हुआ तो हुआ क्या ?

लेकिन हुज़ूर अब EVM बाबा का दौर है जिनके विस्वस्त सूत्र आपको पहले ही सूचित कर देते हैं की NDA की सरकार बनने जा रही है, भले ही जमीनीं हक़ीकत कुछ भी हो ? लेकिन आप आश्वस्त रहते है और जनता को भी आश्वस्त कर देते हैं ? क्या ये भी जुमला कह कर पलडा झाड लिया जयेगा या जनता को विज्ञापन लुलोभी भक्त मीडिया इस जनता के सावालों पर जिम्मेदारी के साथ जिम्मेदार लोगों से सवाल दागेगी ? और क्योंकर ऐसी फेक जानकारी कहाँ से प्रधानमंत्री जी को उपलब्ध हुई इसे पडताल कर जनता के समक्ष रखेगी ?