-रवि जी. निगम

सामाजिक कार्यकर्ता – संपादक

है ना एक दिल में दो-दो दर्द ! एक तो बिहार में जंगलराज , जंगलराज का युवराज की राग अलापते रहने का कोई लाभ मिलता दिख नहीं रहा है, बिचारे सुशासन बाबू की तस्वीर भी हटाने का लाभ भी मिलता नहीं दिख रहा है, वहीं वो भक्त जो सदैव नतीजे से पहले ही जीत की पृष्ठभूमि तैयार कर देते थे उन्होने ने भी सायद हाँथ खीच लिया है अब इसके तो दो कारण हो सकते हैं पहला ये कि हर बडे मीडिया हाऊस में उनकी उपस्थिति है जो बिहार से है या जुडे हैं, इस लिये गौरतलब है कि वो सब चाल, चरित्र और चेहरे को भली-भांति पहचानते हैं, जिसके लिये वो अपने राज्य के प्रति वफादार रहना या दिखना चाहते हैं और वहाँ पर चाह करके भी ऐसी सत्ता को कुर्सी पर आसीन नहीं होने देना चाहते जो उनके राज्य के लिये श्रेयकर न हो, या फिर इसबार अमेरिकी मीडिया के निष्पक्षता से प्रभावित हो कर उन्होने भी थोडी सीख ले ली हो।

वहीं उनके नेतागण बिहार पर एग्जिट पोल को मानने को तैयार नहीं है क्योंकि उन्हे मोदी जी के विश्वस्त सूत्रों पर पूरा भरोसा है जो फरबिसगंज के रैली से पहले ये सूचना दे रहे थे कि आज अभी तक भारी मतदान हो चुका है जिसे मोदी जी ने जनता के साथ भी साझा किया था, क्योंकि मीडिया चैनलों पर उनके ही प्रवक्ता धीरे/ कम वोटिंग होने पर कोरोना को दोषी ठहरा या सफाई दे रहे थे, सायद वो विश्वस्त सूत्र EVM बाबा थे क्योंकि इतनी अर्ली इंफोर्मेशन सिर्फ वही प्रोवाइड करा सकने में सक्षम हो सकते हैं ? और भक्त सायद उसी की प्रतीक्षा में हों ? क्योंकि उन्हे लग चुका है कि मीडिया तो अब साथ देने से रही अब तो उन्ही पर ही भरोसा है अब वही कुछ चमत्कार कर सकते हैं ! लेकिन उत्तर प्रदेश, मध्य प्रदेश और गुजरात के एग्जिट पोल पर उन्हे संदेह कतई नहीं है, वहाँ पर तो मीडिया का एग्जिट पोल एक दम टकाटक है, अरे दद्दा कभी उनकी भी भावनाओं की कद्र करना सीखो कहीं तो उनकी भी सरकार बनने दो, के हर जगह अपनी ही…. आखिर इतना तो हक़ उनका भी बनता है कि नहीं ? समस्या विकट…

उधर दूसरी तरफ मोदी जी भी अपने मित्र ट्रम्प के लिये इवेंट मैनेजमेंट के माध्यम से ‘नमस्ते ट्रम्प’ पर देश के खजाने से करोडों रूपये खर्च करके भी उनकी जीत पक्की नहीं करा पाये, व उनके चाहने वाले समर्थकों का न ही शंख, मंजीरा, घंटा, हवन ही काम आया बेचारे हार तक नहीं पचा पा रहे हैं और सारा दोषारोपण मीडिया पर थोप रहे हैं अजीब विडम्बना है कि सरकार में खुद और वो भी राष्ट्रपति जैसे सुप्रीम पॉवर की ताकत उनके पास फिर भी बता रहे हैं कि धांधली हो रही है ! कुर्सी में ऐसे चिपक गये हैं कि उसे छोडने की इच्छा तक नहीं जुटा पा रहे हैं, कहते हैं चुनाव हम जीते हैं बाइडन नहीं, हम सुप्रीम कोर्ट जायेंगे, अब पता नहीं वो इस सदमें से कब बाहर निकलेंगे ?

खबरों के मुताबिक

अमेरिकी राष्ट्रपति चुनाव में जो बाइडन की जीत के बीच अमेरिकी राष्ट्रपति राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने बयान दिया है। डोनाल्ड ट्रंप ने कहा कि यह चुनाव अभी खत्म नहीं हुआ है। इसके साथ ही उन्होंने कहा कि जो बाइडन को किसी भी राज्य में अधिकारिक तौर पर विजेता घोषित नहीं किया गया है।

चैन से नहीं बैठेंगे ट्रम्प
अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने यह भी कहा कि मैं तब तक चैन से नहीं बैठूंगा, जब तक कि अमेरिकियों को उनके हक और लोकतंत्र की मांग के अनुसार ईमानदार मतगणना नहीं मिलती है। डोनाल्ड ट्रम्प ने यह भी कहा कि हम सभी जानते हैं कि जो बाइडन गलत तरह से खुद को विजेता बता रहे हैं और उसके मीडिया सहयोगी नहीं चाहते कि सच्चाई उजागर हो।

फिर किया जीत का एलान
डोनाल्ड ट्रम्प ने यह भी कहा कि हम सभी जानते हैं कि जो बाइडन गलत तरह से खुद को विजेता बता रहे हैं और उसके मीडिया सहयोगी नहीं चाहते कि सच्चाई उजागर हो। इतना ही नहीं बाइडन को जीतते देख ट्वीट कर कहा है कि मैं भारी वोटों से चुनाव जीत गया हूं।

लगाए आरोप
इसके बाद एक अन्य ट्वीट में उन्होंने कहा कि पर्यवेक्षकों को काउंटिंग रूम में घुसने की इजाजत नहीं दी गई। यह चुनाव मैं ही जीता हूं और मुझे 7 करोड़ 10 लाख वैध वोट मिले हैं। इस पूरी प्रक्रिया के दौरान कई गलत चीजें हुई हैं, जिन्हें पर्यवेक्षकों को नहीं देखने दिया गया। ऐसा पहले कभी नहीं हुआ।’