नई दिल्ली : निर्वाचन आयोग (ईसीआई) ने हाल ही में संपन्न बिहार विधानसभा चुनावों में दोबारा वोटों की गिनती की मांग कर रहे छह उम्मीदवारों के आवेदनों को अस्वीकार कर दिया है।ईसीआई के अनुसार, 11 सीटें ऐसी हैं जहां 10 नवंबर को मतगणना के दौरान काफी कम अंतर से विजेता का फैसला हुआ। यहां जीत और हार के बीच का अंतर 1,000 वोटों से कम था। इन 11 में से छह उम्मीदवार मतगणना से संतुष्ट नहीं हैं और उन्होंने रिटर्निंग अधिकारियों के फैसले को चुनौती दी है।

मटिहानी से नरेंद्र सिंह की शिकायत
मटिहानी से उम्मीदवार नरेंद्र सिंह उर्फ बोगो सिंह ने ईसीआई में शिकायत दर्ज कराई है, उन्हें लोक जनशक्ति पार्टी के राज कुमार सिंह ने 333 मतों के अंतर से हराया है। उन्होंने सभी ईवीएम, वीवीपैट और डाक मतपत्रों के मिलान के लिए आवेदन किया है।

12 वोटों से हारा आरजेडी प्रत्याशी
राष्ट्रीय जनता दल राजद के शक्ति सिंह यादव ने भी ईसीआई से शिकायत की। वह केवल 12 वोटों के अंतर से जनता दल-यूनाइटेड के कृष्ण मुरारी शरण से चुनाव हारने के बाद ईवीएम, वीवीपैट और पोस्टल बैलेट की दोबारा गिनती की मांग कर रहे हैं।

बसपा प्रत्याशी की 189 मतों से हार
रामगढ़ विधानसभा क्षेत्र से राजद के सुधाकर सिंह ने बहुजन समाज पार्टी के अंबिका सिंह को 189 मतों से हराया। अंबिका ने ईसीआई को शिकायत दर्ज कर वोटों की फिर से गिनती की मांग की है। इसी तरह की शिकायत परबत्ता, दिहारी और कुढ़नी विधानसभा क्षेत्रों के उम्मीदवारों से भी मिली है।

आवेदन सत्यापित
बिहार के मुख्य निर्वाचन अधिकारी एच आर श्रीनिवास ने कहा: “ये आवेदन सत्यापित हैं, लेकिन इनके कारण वास्तविक नहीं हैं। इसलिए, ईसीआई नियमों के संबंधित धाराओं के तहत, इन आवेदनों खारिज करता है।” “हमने लिखित प्रारूप में हर उम्मीदवारों को कारण विवरण दिया है।”

चुनाव आयोग पर पक्षपात का आरोप
उम्मीदवारों ने पहले ही राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (एनडीए) के उम्मीदवारों पर पक्ष लेने के लिए चुनाव आयोग पर आरोप लगाया है, उनमें से कई लोग आयोग के फैसले को अदालत में चुनौती देने की योजना बना रहे हैं। इससे पहले, राजद और कांग्रेस ने आरोप लगाया है कि मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने इन निर्वाचन क्षेत्रों के अधिकारियों पर दबाव बनाया है।