हैदराबाद – हैदराबाद नगर निगम के लिए गत 1 दिसम्बर को आयोजित चुनाव की मतगणना आज की गई, जिसमें अंतिम समाचार मिलने तक तेलंगाना राष्ट्र समिति 56 सीटों पर जीत दर्जकर सबसे बड़ी पार्टी के रूप में उभरी है, जबकि भारतीय जनता पार्टी ने पहली बार 49 सीटों पर जीत दर्ज करते हुए दूसरे स्थान पर कब्जा जमा लिया है।

तीसरे स्थान पर एआईएमआईएम 43 सीटों के साथ नजर आ रही है। जबकि कांग्रेस मात्र 02 सीटों पर जीत दर्ज कर अंतिम स्थान पर बनी हुई है। अन्य किसी भी पार्टी या निर्दलीय उम्मीदवार को जीत दर्ज करने में सफलता नहीं मिली है।

इस चुनाव परिणाम से भाजपा के खेमें में जहाँ जश्न का माहौल है, वहीं टीआरएस को सोचने पर मजबूर होना पड़ रहा है। राजनीतिक हलकों में इस बात पर चर्चा शुरू हो गई है कि सत्ता स्थापना के लिए तेलंगाना राष्ट्र समिति खुले आम एआईएमआईएम से समझौता करेगी या नहीं। यदि इस तरह का समझौता होता है, तो टीआरएस के खेमे से कई निर्वाचित उम्मीदवार बगावत करने पर भी उतर सकते हैं।

पार्टी 2016 के चुनाव के मुकाबले शानदार प्रदर्शन करती दिख रही है, जिसमें उसे तेलुगुदेशम पार्टी (तेदेपा) के साथ गठबंधन करके चार सीटों पर जीत हासिल हुई थी। पिछले चुनाव में चंद्रशेखर राव नीत तेलंगाना राष्ट्र समिति (टीआरएस) ने 150 वार्डों में से 90 में जीत हासिल की थी।