छिबरामऊ(कन्नौज) नगर के मुख्य मार्ग को अतिक्रमण मुक्त बनाने के लिए गुरुवार को नगर पालिका ने अभियान चलाया। जेसीबी से मुख्य मार्ग का फुटपाथ खाली करवाया गया। अतिक्रमण हटाने के दौरान दुकानदारों व पालिका कर्मियों में कई बार तीखी झड़प हुई। वहीं भीड़ ने पुलिसकर्मियों से धक्का मुक्की कर दी।
गुरुवार को ईओ सुरेंद्र कुमार केसरवानी के नेतृत्व में पालिका कर्मियों ने पुलिस बल के साथ कोतवाली से अतिक्रमण हटाओ अभियान की शुरुआत की। भारी लाव-लश्कर के साथ पालिका की टीम को देखकर कई लोगों ने दुकानों के बाहर रखे तखत खुद ही हटा लिए। जहां दुकानों के बाहर तखत मिले, कर्मचारियों ने साथ चल रही ट्रैक्टर ट्राली में लाद लिया। नगर पालिका के इस अभियान से मुख्य मार्ग पर हड़कंप मच गया। पीपल चौराहे के आगे मुख्य मार्ग के किनारे फुटपाथ पर लगी लोहे की सीढ़ी को जेसीबी मशीन से हटा दिया गया। डाकघर तिराहे पर सभासद धर्मेंद्र दुबे शम्मी और दुकानदारों के बीच तीखी झड़प हुई। एसआई हरिओम गुप्ता व एसआई संजेश कुमार को बीच-बचाव करने आना पड़ा। भीड़ में पुलिस कर्मियों के साथ धक्का मुक्की भी हुई। दुकानदारों ने नगर पालिका पर अतिक्रमण अभियान में भेदभाव करने का आरोप लगाया। मुख्य मार्ग पर पेट्रोल पंप के सामने तक पालिका का अभियान चला।
अतिक्रमण हटाओ अभियान के दौरान नगर पालिका की टीम के साथ भारी संख्या में पुलिस व पीएसी बल मौजूद रहा। इससे नगर के लोग सहम गए। गुरुवार को साप्ताहिक बंदी होने के कारण दुकानदार दुकानों को बंद कर पालिका के इस अभियान को देखने के लिए मुख्य मार्ग पर चल रहे थे। इससे जेसीबी मशीन के आसपास भीड़ रही। 
अब बातचीत के बाद चलेगा अभियान 
अधिशासी अधिकारी सुरेंद्र केसरवानी ने बताया कि अभियान से काफी हद तक मुख्य मार्ग का अतिक्रमण साफ हो गया। अब अधिकारियों से बातचीत की जाएगी। अतिक्रमण हटाओ अभियान चलाने के निर्देश मिले तो पालिका इसे फिर से शुरू करेगी। उन्होंने दुकानदारों को चेताया कि नगर पालिका की नाली के बाहर का अतिक्रमण किसी भी कीमत पर बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। अब अतिक्रमण हटाने के साथ दुकानदारों से जुर्माना भी वसूल किया जाएगा। 
नहीं हटवाया गया स्थायी अतिक्रमण 
अभियान के दौरान कई जगह स्थायी अतिक्रमण मिला। इसे पालिका कर्मियों ने छोड़ दिया। यह देख दुकानदारों ने नगर पालिका पर भेदभावपूर्ण कार्रवाई का आरोप लगाना शुरू कर दिया। कई जगह इस बात को लेकर दुकानदार व पालिका प्रशासन आमने सामने हो गया। साथ चल रहे पुलिस कर्मियों ने बीच में पड़कर मामला शांत कराया। 
 
मुकदमा दर्ज कराने की मांग पर अड़े सफाई कर्मी 
अतिक्रमण हटाने के लिए नगर पालिका के सफाई कर्मियों को भी कोतवाली बुलाया गया था। इन्होंने सफाई कर्मी के साथ मारपीट की घटना का मुकदमा दर्ज न होने तक अभियान में शामिल होने से इनकार कर दिया। एसआई हरिओम गुप्ता ने मामले की गंभीरता को देखते हुए तत्काल मुकदमा पंजीकृत करवाकर पीड़ित सफाई कर्मी को मेडिकल के लिए सौ शय्या अस्पताल भिजवाया। इसके बाद सफाई कर्मी अभियान में शामिल हुए।