वैक्सीन लेने के बाद का अनुभव किया साझा (फोटो- पीटीआई)

अरुण कुमार श्रीवास्तव ने कहा कि कोरोना की वैक्सीन लेते हुए वो एक पल के लिए भी नर्वस नहीं थे. इस घड़ी के लिए काफी हेल्थ वर्कर्स ने अपनी जिंदगी को दांव पर लगाया है.

लखनऊ (यूपी) राम मनोहर लोहिया अस्पताल में अरुण कुमार श्रीवास्तव नाम के एक शख्स को सबसे पहले कोरोना का टीका लगाया गया है. अरुण कुमार की उम्र 51 साल है. वह लोहिया अस्पताल में अकाउंट ऑफिसर हैं. वह साल 2008 से ही इस संस्थान में काम कर रहे हैं. उनके तीन बच्चे हैं. उन्होंने बताया कि सबसे पहले उनका नाम 50 लाभार्थियों में आया था. इस बारे में उनको मोबाइल पर संदेश भी आया था और बताया गया था कि 10.59 मिनट पर उन्हें कोरोना का टीका लगाया जाएगा.   

आजतक से बात करते हुए उन्होंने कहा कि पहले जब उनकी पत्नी को इस बारे में जानकारी मिली तो वो थोड़ी चिंतित नजर आईं. लेकिन उन्हें समझाया कि मैं देश के मेडिकल सिस्टम पर भरोसा करता हूं. टीका लेने के बाद उन्हें आधे घंटे तक निरीक्षण कक्ष में बैठाया गया. फिलहाल वो पूरी तरह स्वस्थ महसूस कर रहे हैं. उन्होंने यह भी कहा कि वो इस घड़ी का बेसब्री से इंतजार कर रहे थे. 

अरुण कुमार श्रीवास्तव ने कहा कि वो कोरोना टीका को लेकर पूरी तरह से आश्वस्त थे. उन्होंने कहा कि कोरोना की वैक्सीन लेते हुए वो एक पल के लिए भी नर्वस नहीं थे. इस घड़ी के लिए काफी हेल्थ वर्कर्स ने अपनी जिंदगी को दांव पर लगाया है. मैं उन सभी प्रतिभागियों के हौसले का सम्मान करता हूं.