कन्नौज मेडिकल कॉलेज

मेडिकल कालेज कन्नौज फोटो:MA

कन्नौज (यूपी) कन्नौज में सोशल वर्कर डॉ. नूतन ठाकुर की शिकायत पर शासन स्तर से हुई जांच में राजकीय मेडिकल कालेज तिर्वा में करोड़ों रुपये का गोलमाल खुलने लगा है। ऑडिट टीम को कर्मचारियों की बायोमीट्रिक में फर्जी हाजिरी दिखाकर भुगतान करना मिला है। छह साल से हर्ष इंटर प्राइसेस को टेंडर देने की बात भी सामने आई है।

वहीं, प्राचार्य ने बताया वह इस मामले का जवाब शासन को भेज चुके हैं। वहीं इसके बाद भी इसी एजेंसी से काम लिया जा रहा है। मार्च 2019 में डॉ. नूतन ठाकुर ने शासन को पत्र भेजकर राजकीय मेडिकल कालेज तिर्वा में कर्मचारियों की फर्जी हाजिरी दिखाकर करोड़ों रुपये का गोलमाल होने की शिकायत की थी। यहां बायोमीट्रिक हाजिरी की व्यवस्था है। छह साल से लगातार हर्ष इंटर प्राइसेस को टेंडर देने का आरोप भी लगाया था।

चिकित्सा शिक्षा विभाग के सचिव के आदेश पर आंतरिक लेखा एवं लेखा परीक्षा निदेशालय के अपर निदेशक व पर्यवेक्षणीय अधिकारी उत्तर प्रदेश साजिद आजमी को जांच सौंपी गई थी। साजिद आजमी की निगरानी में संपरीक्षा दल के सदस्य लेखाकार विवेक कुमार त्रिपाठी और सुनील राय ने मामले की जांच शुरू की। आठ जुलाई 2019 से शुरू हुई जांच 16 जुलाई 2019 तक की गई