इटावा (यूपी) जसवंतनगर के एक गांव की किशोरी ने छेड़छाड़ से क्षुब्ध होकर ट्रेन के आगे कूद खुदकुशी कर ली है। दो दिन पहले छेड़छाड़ की घटना की शिकायत किशोरी ने पुलिस से की थी, लेकिन कार्रवाई के बजाय दबाव बना समझौता करा दिया गया। प्रभारी एसपी अपर्णा गौतम ने थानेदार की भूमिका को संदिग्ध मानते हुए एसपी सिटी को जांच सौंपी है।

17 वर्षीय किशोरी को गांव के ही युवक ने 20 जनवरी को खेत में पकड़ लिया था। उसके साथ छेड़छाड़ और रेप का प्रयास किया। किशोरी के शोर मचाने पर युवक भाग निकला। उधर, घर पहुंचकर किशोरी ने परिजनों को आपबीती बताई। परिजन उसे लेकर थाने पहुंचे और छेड़छाड़ व रेप के प्रयास का आरोप लगाते हुए तहरीर दी।

पुलिस ने कार्रवाई करने के बजाय दूसरे पक्ष को बुलाकर समझौता करा दिया। इससे क्षुब्ध किशोरी ने शुक्रवार दोपहर दिल्ली-हावड़ा रेल लाइन पर बलरई स्टेशन के पास ट्रेन से कटकर आत्महत्या कर ली। मामला छेड़छाड़ से जुड़ा होने से अफसरों में हड़कंप मच गया, एसपी सिटी, एसडीएम और तमाम अधिकारी गांव पहुंच गए। मृतका के भाई जितेंद्र कुमार ने गांव के पंकज पर आरोप लगाया है पुलिस पंकज की तलाश में छापेमारी कर रही है।