नई दिल्ली: सेक्स से बचने की सलाह, कोवाक्सिन के क्लीनिकल ट्रायल अभी चल रहा है और उसकी सुरक्षा तथा असर को लेकर अभी परीक्षण बाकी है। बावजूद इसके दवा नियामक, ड्रग कंट्रोलर जनरल ऑफ इंडिया (डीजीसीआई) ने वैक्सीन को आम जनता को देने की अनुमति दी है। हालांकि, चिकित्सा विशेषज्ञों ने कोवाक्सिन के तीसरे चरण के ट्रायल मे हिस्सा लेने वाले स्वयंसेवकों को सेक्स से बचने की सलाह दी है कि तीन महीने तक सेक्स करने से पहले कंडोम का इस्तेमाल जरूर करें।

अधिक महत्वपूर्ण जानकारियों / खबरों के लिये यहाँ क्लिक करें 

टीकाकरण अभियान का हिस्सा बने सभी बरतें सावधानी
पुरुष स्वयंसेवकों के लिए जरूरी है कि वैक्सीनेशन के तीन महीने बाद तक महिला साथी के साथ प्रभावी गर्भनिरोधक का इस्तेमाल किया जाए। लेकिन अहम सवाल यह है कि क्या गर्भनिरोधक का उपयोग करने की सावधानी उन सभी लोगों के लिए सेक्स से बचने की सलाह नहीं होनी चाहिए जो मौजूदा सरकारी टीकाकरण अभियान में हिस्सा ले रहे हैं।

मानवाधिकार अभिव्यक्ति न्यूज की चुनिंदा खबरों को पढने के लिए यहाँ क्लिक करे

सेक्स से बचने की सलाह

चिकित्सा विशेषज्ञों का कहना है कि टीकाकरण के बाद सेक्स के लिए कंडोम का उपयोग करने के लिए स्थिति खुद ही स्पष्ट है जो भ्रूण या प्रजनन क्षमता पर विपरीत असर डाल सकता है। विशेषज्ञों का कहना है कि टीका लगाने वाले लाभार्थियों को सावधानी बरतनी चाहिए क्योंकि प्रजनन क्षमता को बनाए रखने के लिए वैक्सीनेशन के 3-12 महीने बाद भागीदारों के साथ सीधे सेक्स से बचने चाहिए।

“MA news” app डाऊनलोड करें और 4 IN 1 का मजा उठायें  + Facebook + Twitter + YouTube.

Download now

प्रजनन पर प्रभाव
प्रसिद्ध सेक्सोलॉजिस्ट डॉ प्रकाश कोठारी कहते हैं, “हम किसी वैक्सीन के टेराटोजेनिक प्रभाव (असामान्य भ्रूण विकास) को नहीं जानते हैं क्योंकि इसकी जाँच करना जल्दबाजी होगी। हालांकि, अगर ऐसी स्थिति ट्रायल के स्वयंसेवकों पर लगाई गई है, तो यह इंगित करता है कि यह संभावना हो सकती है। वैक्सीन प्रजनन पर कितना असर डाल सकती है, इसकी जांच किए बिना ही टीके को मंजूरी दे दी गई।