किसानों की ओर से निकाली गई ट्रैक्टर रैली के दौरान कुछ तत्वों द्वारा हिंसा अस्वीकार्य

अधिक महत्वपूर्ण जानकारियों / खबरों के लिये यहाँ क्लिक करें 

नई दिल्ली: कृषि कानूनों के खिलाफ गणतंत्र दिवस के दिन किसानों की ओर से निकाली गई ट्रैक्टर रैली के दौरान हुई हिंसा का कई नेताओं ने आलोचना की है। पंजाब के मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह और एनसीपी प्रमुख शरद पवार ने भी इस पर टिप्पणी की है।

मानवाधिकार अभिव्यक्ति न्यूज की चुनिंदा खबरों को पढने के लिए यहाँ क्लिक करे

दिल्ली में चौंकाने वाले दृश्य
पंजाब के सीएम अमरिंदर सिंह ने कहा कि दिल्ली में चौंकाने वाले दृश्य। कुछ तत्वों द्वारा हिंसा अस्वीकार्य है। यह शांतिपूर्ण ढंग से विरोध कर रहे किसानों द्वारा उत्पन्न सद्भावना को नकार देगा। किसान नेताओं ने खुद को अलग कर लिया और ट्रेक्टर रैली को स्थगित कर दिया। मैं सभी वास्तविक किसानों से दिल्ली को खाली करने और सीमाओं पर लौटने का आग्रह करता हूं।

“MA news” app डाऊनलोड करें और 4 IN 1 का मजा उठायें  + Facebook + Twitter + YouTube.

Download now

शरद पवार ने की निंदा
एनसीपी अध्यक्ष शरद पवार ने कहा कि आज दिल्ली में जो हुआ कोई भी उसका समर्थन नहीं करता परंतु इसके पीछे के कारण को भी नज़रअंदाज नहीं किया जा सकता। पिछले कई दिनों से किसान धरने पर बैठे थे, भारत सरकार की ज़िम्मेदारी थी कि सकारात्मक बात कर हल निकालना चाहिए था। वार्ता हुई लेकिन कुछ हल नहीं निकला।