नयी दिल्ली: बहुजन समाज पार्टी के सतीश मिश्रा ने कृषि कानूनों के विरोध में दिल्ली की सीमाओं पर आंदोलन कर रहे किसानों को रोकने के लिए कंटीले तार एवं बाड़ लगाने और खाई खोदने पर कड़ी आपत्ति जताते हुए शुक्रवार को कहा कि ऐसा करवाने वाले खुद अपने लिए खाई खोद रहे हैं।

निडर, निष्पक्ष, निर्भीक चुनिंदा खबरों को पढने के लिए यहाँ क्लिक करे

सतीश मिश्रा ने किसानों पर कार्रवाई निंदनीय

सतीश मिश्रा ने राष्ट्रपति के अभिभाषण पर धन्यवाद प्रस्ताव पर चर्चा में शामिल होते हुए कहा कि किसानों पर आंसू गैस के गोले छोड़े जा रहे हैं। किसान अन्नदाता हैं, वे अपने हक के लिए आंदोलन कर रहे हैं तो उनके विरुद्ध देशद्रोह के मुकदमे ठोके जा रहे हैं। उन्हें कहा कि यह बहुत निंदनीय है। किसान हमारे भाई और बहन हैं, उनके बच्चे हमारे बच्चों जैसे हैं।

अधिक महत्वपूर्ण जानकारियों / खबरों के लिये यहाँ क्लिक करें

किसानों को खरीदना चाहती है सरकार
सतीश मिश्रा कहा कि सरकार किसानों को पांच सौ रुपये प्रति माह देकर उन्हें खरीदना चाहती है। यह सरकार किसानों पर नये कृषि कानून थोपना चाहती है। यदि ये कानून किसानों को पसंद नहीं हैं तो उन्हें जबरन क्यों थोपा जा रहा है। उन्होंने कहा कि सरकार को तीनों कानून वापस लेना चाहिए।

“MA news” app डाऊनलोड करें और 4 IN 1 का मजा उठायें  + Facebook + Twitter + YouTube.

MA news Logo 1 MANVADHIKAR ABHIVYAKTI NEWS

Download now

सरकारी संस्थानों को बेचने का काम जारी
मिश्रा ने कहा कि यह सरकार सरकारी संस्थानों को निरंतर बेचने का काम कर रही है। भारतीय जीवन बीमा निगम पर हर भारतीय का पूरा भरोसा है,उसे भी निजी हाथों में सौंपने की तैयारी कर ली गयी है। बैंकों को बेचा जा रहा है। यह सरकार राष्ट्र निर्माण में भूमिका निभाने वाले संस्थानों को बेचने पर आमादा है, यह सार्वजनिक क्षेत्र के प्रतिष्ठानों और सरकारी भूमि सहित हर चीज को बेचने का काम कर रही है। यह उचित नहीं है, इस प्रवृत्ति को रोका जाना चाहिए।