गुलाम नबी आजाद ने अपने मुख्यमंत्रित्व काल को याद किया

निडर, निष्पक्ष, निर्भीक चुनिंदा खबरों को पढने के लिए यहाँ क्लिक करे

नई दिल्ली: राज्यसभा में विपक्ष के नेता गुलाम नबी आजाद ने मंगलवार को कहा कि वह खुद को उन भाग्यशाली लोगों में गिनाते हैं जो पाकिस्तान नहीं गए और उन्हें हिंदुस्तानी मुसलमान होने पर गर्व है। आज़ाद ने कहा, मैंने हमेशा महसूस किया है कि स्वर्ग भारत है। मैं आजादी के बाद पैदा हुआ था। अनुभवी कांग्रेस के नेता गुलाम नबी आजाद ने यह बातें राज्य सभा में अपने विदाई भाषण में कहीं|

अधिक महत्वपूर्ण जानकारियों / खबरों के लिये यहाँ क्लिक करें

अपने मुख्यमंत्रित्व काल में जम्मू-कश्मीर में हुए आतंकवादी हमले को याद करते हुए आज़ाद ने कहा, “मैं ईश्वर से प्रार्थना करता हूं कि इस देश में उग्रवाद और आतंकवाद समाप्त हो।” निवर्तमान आरएस सदस्य, जिसका कार्यकाल अगले सप्ताह समाप्त हो रहा है, ने कहा कि दुनिया भर के मुस्लिम समाजों के विपरीत जो कि असीम से प्रभावित हैं, भारतीय मुसलमान एक साथ रहते हैं और उन्हें ऐसा करना जारी रखना चाहिए।

“MA news” app डाऊनलोड करें और 4 IN 1 का मजा उठायें  + Facebook + Twitter + YouTube.

MA news Logo 1 MANVADHIKAR ABHIVYAKTI NEWS

Download now

सहयोगियों की सराहना
आजाद ने उच्च सदन में अपने भाषण की शुरुआत प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और राज्यसभा में उनके सहयोगियों की सराहना करते हुए की और उनके कार्यों की सराहना की। आजाद ने कहा, “मैंने इस संसद से बहुत कुछ सीखा है। मुझे इंदिरा गांधी और राजीव गांधी के कार्यकाल के दौरान पार्टी के महासचिव के रूप में शुरू किया गया था।” आजाद ने कहा, “मैं यह नहीं भूल सकता कि इंदिरा जी हमें कैसे बताती थीं कि वह अटल जी के साथ संवाद करती हैं और भाजपा नहीं।” दिवंगत पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी भी उनके लिए प्रेरणा बने।