प्रियंका ने श्रद्धालुओं के बीच गंगा में लगाई डुबकी

निडर, निष्पक्ष, निर्भीक चुनिंदा खबरों को पढने के लिए यहाँ क्लिक करे

लखनऊ: प्रियंका गाँधी का बदला रूप और कांग्रेस की बदलती सियासत उत्तर प्रदेश में एक नई दिशा तय कर रही है| हाथ में रुद्राक्ष थामे , माथे पर तिलक धारे कांग्रेस पार्टी की महासचिव आज प्रयागराज पहुंची और गंगा में डुबकी लगाकर भाजपा और दूसरी पार्टियों को संकेत दिया कि किसी भी बात पर किसी का पेटेंट नहीं है, न तिलक पर न तराज़ू और न तलवार पर| प्रियंका का यह नया रूप और नया स्टाइल भगवा पार्टी भाजपा के लिए एक सन्देश देता हुआ नज़र आ रहा और यक़ीनन यह आने वाले विधानसभा चुनाव के लिए कांग्रेस की एक सोची समझी रणनीति का हिस्सा माना जा रहा है|

बात जहाँ तक प्रियंका गाँधी वाड्रा के आज हुए प्रयागराज दौरे की है तो वह सामान्य श्रद्धालु की तरह गंगा स्नान के लिए पहुंची प्रियंका गांधी ने नाव में बैठकर संगम का सफर पूरा किया और सैकड़ों श्रद्धालुओं के बीच गंगा में डुबकी लगाई। मौनी अमावस्या के मौके पर प्रियंका का संगम स्नान उत्तर प्रदेश के मतदाताओं को बड़ा राजनीतिक संदेश देने वाला साबित हो सकता है।

अधिक महत्वपूर्ण जानकारियों / खबरों के लिये यहाँ क्लिक करें

आनंद भवन में अनाथ बच्चों से की मुलाकात
कांग्रेस की राष्ट्रीय महासचिव और उत्तर प्रदेश संगठन प्रभारी प्रियंका गांधी वाड्रा बृहस्पतिवार की सुबह 10:00 बजे प्रयागराज पहुंची, उन्होंने सबसे पहले आनंद भवन में जाकर अनाथ बच्चों से मुलाकात की है। आनंद भवन में ही उन्होंने उस स्थान पर जाकर भी नमन किया है जहां पंडित जवाहरलाल नेहरु की अस्थियां संगम में विसर्जन से पूर्व रखी गई थीं।

“MA news” app डाऊनलोड करें और 4 IN 1 का मजा उठायें  + Facebook + Twitter + YouTube.

MA news Logo 1 MANVADHIKAR ABHIVYAKTI NEWS

Download now

गंगा मैया की और भगवान सूर्य देव की पूजा की
दोपहर में 1:00 बजे के बाद वह संगम स्नान के लिए गंगा के घाट पर पहुंची। उनके साथ कांग्रेस विधानमंडल दल के नेता आराधना मिश्रा मोना और अन्य कांग्रेसी मौजूद रहे । गंगा स्नान के लिए संगम तट पर जाने के लिए प्रियंका गांधी ने नाव का सहारा लिया है। उन्होंने प्रयागराज में गंगा नदी मैं नौकायन के जरिए जीवन यापन करने वाले नागरिकों से मुलाकात और बात भी की है।

संगम तट पर स्नान कर रहे लोगों के बीच में सामान्य श्रद्धालु की तरह पहुंचकर प्रियंका ने भी गंगा में डुबकी लगाई है। गंगा स्नान करने के बाद उन्होंने गंगा मैया की और भगवान सूर्य देव की पूजा भी की है।