नई दिल्ली: सरकार ने देश की रीढ़ को तोड़ा, लोकसभा में बजट पर चर्चा के दौरान कांग्रेस के पूर्व अध्‍यक्ष राहुल गांधी ने संसद में अपने संबोधन में पीएम नरेंद्र मोदी और उनकी सरकार के खिलाफ जमकर निशाना साधा. सरकार पर तंज कसते हुए राहुल ने मुकेश अम्बानी और गौतम अडानी का नाम लिए बिना कहा कि देश में सरकार ‘हम दो हमारे दो’ के नारे पर चल रही है.अब देश में सब कुछ ‘हम दो, हमारे दो’ के लिए ही किया जा रहा है.’

निडर, निष्पक्ष, निर्भीक चुनिंदा खबरों को पढने के लिए यहाँ क्लिक करे

किसानों का नहीं, देश का आंदोलन

उन्‍होंने कहा कि आज चार लोग देश को चला रहे हैं. राहुल गांधी ने किसान आंदोलन और रोजगार के मसले पर भी सरकार को कठघरे में खड़ा किया. राहुल ने कहा कि आज हमारा देश रोज़गार पैदा नहीं कर सकता है, कल भी नहीं कर पाएगा, क्योंकि आपने (केंद्र सरकार ने) देश की रीढ़ की हड्डी तोड़ दी है, यह किसानों का नहीं, देश का आंदोलन है, जिसे किसान सिर्फ रास्ता दिखा रहा है, अंधेरे में टॉर्च दिखा रहा है.

अधिक महत्वपूर्ण जानकारियों / खबरों के लिये यहाँ क्लिक करें

‘हम दो, हमारे दो’ का सिद्धांत
उन्‍होंने कहा कि प्रधानमंत्री देश को ‘हम दो, हमारे दो’ के सिद्धांत पर चला रहे हैं. बीजेपी नीत एनडीए सरकार पर निशाना साधते हुए उन्‍होंने कहा कि यह सिद्धांत हमारे सामने नोटबंद, गुड्स एंड सर्विस टेक्‍स (GST) और हाल के किसान कानून के रूप में सामने आया है, जिसके खिलाफ देशभर के किसान आवाज उठा रहे हैं.उन्‍होंने कहा कि इस सरकार ने ‘हम दो, हमारे दो’ के स्‍लोगन को नए मायने दिए हैं. देश इस समय चार लोगों के द्वारा चलाया जा रहा है-हम दो, हमारे दो.हालांकि यह बात कहते हुए राहुल ने किसी का नाम नहीं लिया, केवल इतना कहा कि हर कोई इन्‍हें जानता है.

“MA news” app डाऊनलोड करें और 4 IN 1 का मजा उठायें  + Facebook + Twitter + YouTube.

MA news Logo 1 MANVADHIKAR ABHIVYAKTI NEWS

Download now

सरकार ने देश की रीढ़ को तोड़ा

किसान आंदोलन के बारे में बात करते हुए राहुल ने कहा-आप सब महसूस करते होंगे कि यह किसानों का विरोध प्रदर्शन हैं लेकन आप लोग गलत हैं. यह देश का विरोध प्रदर्शन है. किसान केवल हमें रास्‍ता दिखा रहे हैं.किसान कानून न केवल किसानों को बर्बाद करेगा बल्कि मध्‍यम वर्ग, छोटे दुकानदारों और छोटे कारोबारियों पर भी इसका विपरीत असर होगा. यह देश की ग्रामीण अर्थव्‍यवस्‍था को तबाह करके रख देगा. उन्‍होंने कहा कि भारत विकास दर और रोजगार का सृजन नहीं कर पा रहा, यह सब केवल इसलिए होगा कि ‘हम दो, हमारे दो’ के लाभ के लिए देश की रीढ़ को तोड़कर रख दिया गया है.