नई दिल्ली: सुप्रीम कोर्ट में सोशल मीडिया पर टिप्पणी मामले में बॉलीवुड एक्ट्रेस कंगना रनौत और उनकी बहन रंगोली चंदेल पहुंच गई हैं. सोशल मीडिया पर टिप्पणी के लिए मुंबई में चल रहे तीन आपराधिक मामलों को हिमाचल ट्रांसफर करने की मांग को लेकर सुप्रीम कोर्ट में याचिका दाखिल की गई है. याचिका में कहा गया है कि अगर ट्रायल मुंबई में चलता है तो उनको शिवसेना नेताओं की निजी प्रतिशोध की वजह से जान का खतरा है।

‘लोकल न्यूज’ प्लेटफॉर्म के माध्यम से ‘नागरिक पत्रकारिता’ का हिस्सा बनने के लिये यहाँ >>क्लिक<< करें

पहला केस
दरअसल, पहला केस वकील अली काशिफ खान देशमुख ने दर्ज करवाया था. मेट्रोपोलिटन मजिस्ट्रेट की अदालत में आपराधिक शिकायत को लेकर है, जिसमें आरोप है कि रनौत का ट्वीट हिंदू और मुसलमानों के बीच सौहार्द बिगाड़ने का कारण बना है।

निडर, निष्पक्ष, निर्भीक चुनिंदा खबरों को पढने के लिए यहाँ क्लिक करे

दूसरा केस
दूसरा केस गीतकार जावेद अख्तर द्वारा मेट्रोपोलिटन मजिस्ट्रेट की अदालत के समक्ष दायर आपराधिक मानहानि का मुकदमा है जिसमें आरोप लगाया गया कि अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत की मौत के बाद रिपब्लिक टीवी में रनौत ने उनके खिलाफ मानहानि की टिप्पणी की थी।

अधिक महत्वपूर्ण जानकारियों / खबरों के लिये यहाँ क्लिक करें

तीसरा केस
तीसरा केस कास्टिंग डायरेक्टर मुनव्वर अली सैय्यद द्वारा दायर किया गया राजद्रोह का मामला है जिसमें आरोप है कि रनौत और उनकी बहन रंगोली चंदेल ने सोशल मीडिया के माध्यम से सांप्रदायिक तौर पर बांटने की कोशिश की।