कोविड के दौरान टीबी होने पर क्या है निदान, यदि आपके आसपास के किसी व्यक्ति को टीबी है, या आप खांसी, बुखार, रात में पसीना आना, भूख कम लगना या अत्यधिक थकान का अनुभव कर रहे हैं, तो संभव है कि आप टीबी से पीड़ित हों। चूँकि कोरोना वायरस महामारी का दौर अभी जारी है व दोनों रोगों के लक्षण भी एक जैसे ही हैं, इसलिए उन्हें अनदेखा करना बिल्कुल भी ठीक नहीं। ऐसा होने पर आप तुरंत अपने डॉक्टर से परामर्श लें। रोग की डायग्नोसिस करने के लिए कुछ त्वचा या/ और रक्त परीक्षण किए जाते हैं, और जांच में टीबी की पुष्टि होने पर आपको तुरंत उपचार शुरू कर देना चाहिए। टीबी जांच या उपचार ना कराने पर आपके स्वास्थ्य को बहुत नुकसान हो सकता है, जिससे आपके और समाज के लोगों में बीमारी फैलने की संभावना बढ़ जाती है।

अधिक महत्वपूर्ण जानकारियों / खबरों के लिये यहाँ >>क्लिक<< करें

यदि जांच में आपको टीबी होने की पुष्टि हो जाती है, तो कोविड वायरस के इस दौर में आप इन बातों को ध्यान में रख सकते हैं:

निक्षय संपर्क: टीबी के लक्षण, निदान (डायग्नोसिस), परीक्षण, उपचार के विकल्प, दवाएं और रोग से संबंधित किसी भी जानकारी के लिए यह एक हेल्पलाइन है। रोगी को जानकारी और सहायता देने के लिए हेल्पलाइन 14 भाषाओं में काम कर रहा है: 1800-11-6666

‘लोकल न्यूज’ प्लेटफॉर्म के माध्यम से ‘नागरिक पत्रकारिता’ का हिस्सा बनने के लिये यहाँ >>क्लिक<< करें

नियमित दवाएं लेना: एक बार उपचार शुरू होने पर ये सुनिश्चित करें कि आप अपनी दवा नियमित रूप से ले रहे हैं। दवा की एक भी खुराक न छोड़ें। दवाएं और उपचार की अवधि संक्रमित स्थान, आपकी आयु, दवाओं का संभावित प्रतिरोध और अन्य कारकों पर निर्भर करती है जैसे कि आपमें टीबी के छिपे हुए लक्षण हैं या सक्रिय टीबी है।

निगरानी: चूंकि वर्तमान महामारी की वजह से डॉट (डायरेक्टली ऑब्जर्ब्ड थेरेपी – जहां आपको अपने डॉक्टर से रोज़ मिलना पड़ता है) संभव नहीं है, एक निश्चित दैनिक क्रिया का पालन करें और उस क्रिया से पहले या बाद में अपनी दवा लें। इस तरह, आप एक दिनचर्या बनाए रख सकते हैं। आप अपने किसी मित्र/ परिवार को भी याद दिलाने के लिए कह सकते हैं।

निडर, निष्पक्ष, निर्भीक चुनिंदा खबरों को पढने के लिए यहाँ >> क्लिक <<करे

कैलेंडर: प्रतिदिन एक ही समय पर अपनी दवा लें और दवा लेने के बाद अपने कैलेंडर पर चिह्न लगाएं। यदि आप एक दिन भी दवा लेना भूल जाते हैं, तो अपने डॉक्टर से बात करें।

साफ-सफाई: खांसने या छींकने के लिए हमेशा अपने साथ टिश्यू रखें और एक बार इस्तेमाल करने के बाद उसे फेंक दें। बंद स्थानों में टीबी के बैक्टीरिया को पैदा होने से रोकने के लिए खुद को हवादार कमरे में रखें ताकि ताजी हवा मिल सके।

रोकथाम: कुछ समय के लिए किसी के भी निकट संपर्क से बचें। सिर्फ डॉक्टर की अनुमति के बाद ही परिवार के लोगों के बीच वापस जाएं।

चूंकि टीबी और कोरोना वायरस दोनों संचारी रोग हैं, इसकी वजह से पीड़ित को अक्सर सामाजिक बहिष्कार और भेदभावपूर्ण व्यवहार का सामना करना पड़ता है। इसलिए, टीबी/कोविड – 19 के साथ डॉक्टरों, देखभाल करने वालों, दोस्तों और रोगियों के परिवार के लोगों को आगे आना चाहिए और अपनी प्रेरणादायी कहानियों को सबके साथ साझा करना चाहिए। टीबी से पीड़ित लोगों के प्रति पक्षपाती न बने और न ही बीमारी को लेकर स्टीरियोटाइप न हों। यह उन्हें निवारक उपायों और स्वस्थ प्रक्रियाओं को अपनाने से रोक सकता है, आगे स्थिति को और बिगाड़ सकता है। शुरुआती जांच, निदान और उपचार के बारे में सकारात्मक बात करें। अगर आप टीबी से ठीक हुए मरीज़ हैं, तो अपनी कहानी सभी के साथ साझा करें। यह अन्य मरीज़ों के लिए मददगार हो सकता है!

याद रखें, उपचार के कुछ हफ्तों के बाद, आप से संक्रमण नहीं फैलता है। आपको केवल तब तक दवा जारी रखने की जरूरत होती है जब तक कि आपका डॉक्टर इसे बंद करने के लिए ना कहे। इसलिए, टीबी से डरें नहीं। इसका पूरी तरह से इलाज संभव है।