नई दिल्ली: भारत का विदेशी मुद्रा भंडार रूस को पीछे छोड़ते हुए दुनिया का चौथा सबसे बड़ा बन गया है. रिपोर्ट के मुताबिक, भारत का केंद्रीय बैंक अर्थव्यवस्था को किसी अचानक से आउटफ्लो से बचाने के लिए डॉलर को जमा कर रहा है. दोनों देशों के भंडार इस साल महीनों तक तेज बढ़ोतरी करने के बाद अब स्थिर हो गएहैं. भारत आगे बढ़ गया क्योंकि रूसी होल्डिंग्स में हाल के हफ्तों के दौरान तेज दर पर गिरावट आई है.

अधिक महत्वपूर्ण जानकारियों / खबरों के लिये यहाँ >>क्लिक<< करें

भारत की विदेशी मुद्रा होल्डिंग्स 5 मार्च को 4.3 अरब डॉलर की गिरावट के साथ 580.3 अरब डॉलर पर पहुंच गईं. भारतीय रिजर्व बैंक ने शुक्रवार को यह जानकारी दी. इससे रूस का 580.1 अरब डॉलर का भंडार पीछे रह गया है. चीन के पास सबसे ज्यादा भंडार है, जिसके बाद जापान और स्विटजरलैंड आते हैं. भारत का भंडार, जो 18 महीनों का आयात कवर करने के लिए पर्याप्त है, करंट अकाउंट सरप्लस, क्षेत्रीय शेयर बाजार में बढ़ते इनफ्लो और प्रत्यक्ष विदेशी निवेश के कारण आगे बढ़ा है.

निडर, निष्पक्ष, निर्भीक चुनिंदा खबरों को पढने के लिए यहाँ >> क्लिक <<करे

विश्लेषकों का कहना है कि मजबूत भंडार से विदेशी निवेशकों और क्रेडिट रेटिंग कंपनियों को यह भरोसा मिलता है कि सरकार घटते फिजकल आउटलुक और अर्थव्यवस्था के चार दशकों में पहले एक साल के संकुचन की ओर बढ़ने के बावजूद अपने कर्ज को लेकर वादे को पूरा कर सकती है.

‘लोकल न्यूज’ प्लेटफॉर्म के माध्यम से ‘नागरिक पत्रकारिता’ का हिस्सा बनने के लिये यहाँ >>क्लिक<< करें