मुंबई: महाराष्ट्र की उद्धव सरकार ने रातों रात मुंबई पुलिस में एक बड़ा फेरबदल करते हुए 86 अधिकारियों और कर्मचारियों को इधर से उधर कर दिया। इनमें से 65 अधिकारी मुंबई क्राइम ब्रांच के हैं जिनमें वह सहायक पुलिस निरीक्षक भी शामिल है जिससे सचिन वाजे मामले में एनआईए ने पूछताछ की थी।

अधिक महत्वपूर्ण जानकारियों / खबरों के लिये यहाँ >>क्लिक<< करें

मुंबई अपराध शाखा के 65 अधिकारियों का तबादला
शहर के एक पुलिस अधिकारी ने बताया कि अपराध खुफिया इकाई में वाजे के सहकर्मी एपीआई रियाजुद्दीन काजी को स्थानीय हथियार इकाई में भेज दिया गया है, जो कि अपेक्षाकृत कम महत्वपूर्ण विभाग है। उन्होंने बताया कि मुंबई अपराध शाखा के 65 अधिकारियों का तबादला किया गया है।

निडर, निष्पक्ष, निर्भीक चुनिंदा खबरों को पढने के लिए यहाँ >> क्लिक <<करें

देशमुख ने की उद्धव से मुलाक़ात
इससे पहले शाम को महाराष्ट्र के गृह मंत्री अनिल देशमुख ने मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे से मुलाकात की थी। दरअसल गृह विभाग वाजे मामले में सवालों का सामना कर रहा है। साथ ही देशमुख के ख़िलाफ़ भ्रष्टाचार के आरोप भी लगाए जा रहे हैं।

‘लोकल न्यूज’ प्लेटफॉर्म के माध्यम से ‘नागरिक पत्रकारिता’ का हिस्सा बनने के लिये यहाँ >>क्लिक<< करें

एपीआई रियाजुद्दीन से NIA ने की थी पूछताछ
पुलिस अधिकारी ने बताया कि कुल मिलाकर अकेले मुंबई क्राइम ब्रांच के 65 अधिकारियों को बाहर निकाला गया जिनमें से कुछ ट्रैफिक विभाग के थे। काजी से एनआईए ने पूछताछ की थी। एनआईए मुकेश अंबानी के घर के पास एक स्कॉर्पियो को बरामद करने से संबंधित मामले की जांच कर रही है। मामले में वाजे को गिरफ्तार कर लिया गया है।