कानपूर: परमवीर चक्र विजेता वीर अब्दुल हमीद के बेटे अली हसन का शुक्रवार को कानपुर के हैलट अस्पताल में उपचार में दौरान निधन हो गया. परिवार ने अस्पताल पर इलाज में लापरवाई का आरोप लगाया है.

निडर, निष्पक्ष, निर्भीक चुनिंदा खबरों को पढने के लिए यहाँ >> क्लिक <<करें

कोविड जांच न करने का आरोप
परिवार वालों का कहना है कि हैलट के अधिकारियों ने अली हसन की कोविड-19 की जांच कराने की जहमत नहीं उठाई. किसी को नहीं पता कि वह कोरोना संक्रमित थे भी या नहीं. हसन के बेटे सलीम ने दावा किया कि उनके पिता की मौत अस्पताल के डॉक्टरों और कर्मचारियों की लापरवाही के कारण हुई है.

अधिक महत्वपूर्ण जानकारियों / खबरों के लिये यहाँ >>क्लिक<< करें

हालत स्थिर बताकर हटाई ऑक्सीजन
सलीम ने बताया कि पिता पिछले कुछ समय से बीमार चल रहे थें और उन्हें बुधवार को लाला लाजपत राय अस्पताल में भर्ती कराया गया था. उन्होंने पत्रकारों से बात करते हुए बताया कि उन्हें भर्ती होने के बाद ऑक्सीजन पर रखा गया लेकिन चार घंटे बाद उनके स्वास्थ्य को स्थिर बताते हुए ऑक्सीजन की सुविधा हटा ली गई.

‘लोकल न्यूज’ प्लेटफॉर्म के माध्यम से ‘नागरिक पत्रकारिता’ का हिस्सा बनने के लिये यहाँ >>क्लिक<< करें