नई दिल्ली: असम की राजनीति में होगा ऐसा पहली बार, भाजपा असम की सत्ता पर लगातार दूसरी बार काबिज होने जा रही है। सत्तारूढ़ भाजपा नीत राजग ने 126 विधानसभा सीटों में से 77 सीटों पर बढ़त बना रखी है। भाजपा 58 सीटों पर आगे है जबकि उसकी सहयोगी असम गण परिषद 11 और युनाइटेड पीपुल्स पार्टी-लिबरल 8 सीटों पर आगे चल रही है। वहीं, कांग्रेस के नेतृत्व वाला विपक्षी गठबंधन ‘महाजोत’ 45 सीटों पर सिमटता दिख रहा है। नतीजों की आधिकारिक घोषणा अभी नहीं हुई है।

निडर, निष्पक्ष, निर्भीक चुनिंदा खबरों को पढने के लिए यहाँ >> क्लिक <<करें

असम की राजनीति में होगा ऐसा पहली बार

भाजपा ने रचा इतिहास
असम में विधानसभा चुनाव जीत के साथ भाजपा ने इतिहास रच दिया है। असम में पहली मर्तबा किसी गैर-कांग्रेस सरकार ने लगातार दूसरी बार सत्ता में वापसी की है। बता दें कि राज्य में पहली बार गैर-कांग्रेस सरकार साल 1978 में बनी थी। उस वक्त जनता पार्टी ने सत्ता पर कब्जा जमाया था। यह सरकार 18 महीनों के बाद ही गिर गई थी। इसके बाद साल 1985 और 1996 के बीच राज्य में असम गण परिषद की सरकार बनी। हालांकि, असम गण परिषद लगातार सत्ता में नहीं रही। वहीं, साल 2001 से 2016 तक लगातार असम में कांग्रेस की सरकार बनी।

अधिक महत्वपूर्ण जानकारियों / खबरों के लिये यहाँ >>क्लिक<< करें

सोनोवाल और सरमा की शानदार जीत
असम के मुख्यमंत्री सर्बानंद सोनोवाल और वरिष्ठ मंत्री हिमंत बिस्वा सरमा ने चुनाव में बड़ी जीत हासिल की है। सोनोवाल ने माजुली सीट पर 43 हजार192 वोटों के अंतर से कांग्रेस उम्मीदवार राजीब लोचन पेगु को मात दी। वहीं सरमा ने एक लाख से अधिक मतों के अंतर से विधानसभा चुनाव जीता। उन्होंने कांग्रेस के रोमेन चंद्र बोरठाकुर को 1,01,911 मतों से हराकर जालुकबारी सीट पर कब्जा बरकरार रखा।

‘लोकल न्यूज’ प्लेटफॉर्म के माध्यम से ‘नागरिक पत्रकारिता’ का हिस्सा बनने के लिये यहाँ >>क्लिक<< करें