क्यों है फायदेमंद अपने बोनस का बजाज फाइनैंस ऑनलाइन, सामान्य तौर पर, मासिक वेतन प्राप्त करने की खुशी के साथ नए महीने की शुरुआत होती है। लंबे इंतजार के बाद कर्मचारियों को अप्रेजल और बोनस मिलने की शुरुआत हुई है, और ऐसी परिस्थितियों में व्यक्ति के मन में मौज-मस्ती और दिखावे पर पैसे खर्च करने की इच्छा उत्पन्न हो सकती है। परंतु अपनी मेहनत की कमाई के एक हिस्से का निवेश करना अधिक समझदारी भरा विकल्प साबित होगा।

व्यक्ति को न केवल पैसों की बचत करने पर ध्यान देना चाहिए, बल्कि अपनी जमा-पूँजी को बढ़ाने पर भी ध्यान देना चाहिए। वर्तमान में निवेश के कई तरह के साधन उपलब्ध हैं जो जमा-पूँजी के विकास को सुविधाजनक बनाते हैं, किंतु इनमें से प्रत्येक साधन के साथ अपना जोखिम जुड़ा होता है। बाजार की अनिश्चितताओं और उतार-चढ़ाव के बीच, फिक्स्ड डिपॉजिट निवेशकों के लिए सबसे ज्यादा सुरक्षित साधन साबित हुआ है।

निडर, निष्पक्ष, निर्भीक चुनिंदा खबरों को पढने के लिए यहाँ >> क्लिक <<करें

क्यों है फायदेमंद अपने बोनस का बजाज फाइनैंस ऑनलाइन

फिक्स्ड डिपॉजिट निवेश का एक ऐसा बेहतरीन विकल्प है, जो व्यक्ति को अपनी पसंदीदा फाइनैंस कंपनी में किए गए निवेश की गई जमा-पूँजी पर ब्याज़ कमाने में मदद करता है। व्यक्ति नियमित अंतराल पर या मैच्योरिटी के आधार पर रिटर्न प्राप्त कर सकता है।

बजाज फाइनैंस ऑनलाइन FD को चुनने का कारण

डाकघरों, विभिन्न बैंकों तथा नॉन बैंकिंग फाइनैंस कंपनियों द्वारा ग्राहकों को फिक्स्ड डिपॉजिट का प्रस्ताव दिया जाता है। विभिन्न प्रकार के विकल्पों की उपलब्धता के कारण, व्यक्ति के लिए बोनस से हुई अतिरिक्त आमदनी का निवेश सबसे आसान एवं सुरक्षित साधन में करना बेहद चुनौतीपूर्ण कार्य हो सकता है। नीचे बताया गया है कि बजाज फाइनैंस FD में निवेश करना एक स्मार्ट विकल्प क्यों हो सकता है।

निवेश का सबसे सरल एवं भरोसेमंद माध्यम

चूंकि बजाज फाइनैंस ऑनलाइन FD योजनाओं में घर पर आराम से रहते हुए निवेश किया जा सकता है, इसलिए व्यक्ति को लंबी कतारों में इंतजार करने की परेशानी नहीं झेलनी पड़ती है। बजाज फाइनैंस ऑनलाइन FD फॉर्म के साथ-साथ cKYC दस्तावेज सत्यापन प्रक्रिया के कारण कुल मिलाकर निवेश का अनुभव और बेहतर हो जाता है। निवेश की इस प्रक्रिया में शुरू से अंत तक कागजी कार्यवाही शामिल नहीं है, जिसका उपयोग करके FD पर 0.10% की अतिरिक्त ब्याज़ दर का फायदा उठाया जा सकता है।

अधिक महत्वपूर्ण जानकारियों / खबरों के लिये यहाँ >>क्लिक<< करें

साथ ही, लॉक-इन पीरियड भी बेहद सुविधाजनक है जो निवेशक को 12 से 60 महीने की समयावधि का चयन करने की अनुमति देता है, जिससे उन्हें अपनी FD योजनाओं को अपनी जरूरतों के अनुरूप बनाने की स्वतंत्रता मिलती है। निवेशक अपने द्वारा चुने गए FD के प्रकार और समयावधि पर मिलने वाले रिटर्न की पुष्टि के लिए बजाज फिनसर्व की वेबसाइट पर उपलब्ध फिक्स्ड डिपॉजिट कैलकुलेटर पेज पर जा सकते हैं।

मैच्योरिटी पर पर्याप्त रिटर्न कमाएँ
अगर आप मैच्योरिटी पर प्रचुर मात्रा में रिटर्न पाना चाहते हैं तो आपको बजाज फाइनैंस FD में निवेश करना चाहिए। इसकी वजह यह है कि, पोस्ट-ऑफिस FD और बैंक FD द्वारा फिक्स्ड डिपॉजिट पर दी जाने वाली दरें, बजाज फाइनैंस FD योजनाओं से जुड़ी FD दरों की तुलना में बहुत कम हैं।

वरिष्ठ नागरिक किसी भी माध्यम से निवेश करके 0.25% की अतिरिक्त ब्याज़ दर का फायदा उठा सकते हैं।

अपनी सुविधा तथा भविष्य की जरूरतों के साथ-साथ समय-समय पर होने को ध्यान में रखते हुए इसी राशि को बजाज फाइनैंस को नॉन-क्यूम्यलेटिव फिक्स्ड डिपॉजिट योजना में समान समयावधि के लिए भी निवेश किया जा सकता है।

चुनी गई जमा-राशि, ब्याज़ दर, और समयावधि के आधार पर रिटर्न की जांच के लिए व्यक्ति FD कैलकुलेटर का उपयोग कर सकता है, जो बजाज फिनसर्व की आधिकारिक वेबसाइट पर उपलब्ध है।

आसान नकदी प्रवाह तथा बढ़ते क्रम में निवेश

‘लोकल न्यूज’ प्लेटफॉर्म के माध्यम से ‘नागरिक पत्रकारिता’ का हिस्सा बनने के लिये यहाँ >>क्लिक<< करें

अगर आसान नकदी प्रवाह ही निवेशक का लक्ष्य है, तो ऐसे में उसे एक ही फिक्स्ड डिपॉजिट में निवेश के बजाय अलग-अलग समयावधि हेतु निवेश की सलाह की जाती है। इस तरह न केवल उन्हें अपनी जमा-राशि पर ब्याज़ दरों में उतार-चढ़ाव के असर को कम करने में सहायता मिलती है, बल्कि उन्हें एक से ज्यादा FDs का रिटर्न प्राप्त करने तथा भविष्य में इसे अधिक फायदा देने वाली फिक्स्ड डिपॉजिट में निवेश करने में मदद मिलती है।


मल्टी-डिपॉजिट की इस सुविधा से एक बार में कई फिक्स्ड डिपॉजिट में निवेश करने में मदद करती है। इसके अलावा, FD की समयावधि, राशि, और FD के प्रकार का चयन करने का विकल्प निवेशक के पास होगा।

बजाज फाइनैंस ऑनलाइन FD, निवेश के माध्यम से आमदनी के लिए सबसे बेहतर साधन है। यह बात CRISIL (FAAA) और ICRA (MAAA) से प्राप्त उच्च क्रेडिट रेटिंग से साबित होती है, जो भारत में क्रेडिट रेटिंग की अग्रणी एजेंसियां हैं।