यूपी में अब ब्लैक फंगस की दवाइयां प्राइवेट मेडिकल स्टोर पर नहीं मिलेंगी

लखनऊ: यूपी में अब ब्लैक फंगस की दवाइयां, कोरोना वायरस के साथ ही ब्लैक फंगस(black fungus) को कई राज्यों ने महामारी घोषित कर दिया है। इस बीच उत्तर प्रदेश में योगी सरकार ने ब्लैक फंगस में इस्तेमाल होने वाली दवा लाइपोसोमल एम्फोटेरीसीन – बी (Liposomal amphotericin – B) इंजेक्शन और दवाइयों की खुले बाजार (retail market) में बिक्री पर रोक लगा दी है। सरकार ने दवा बेचने के लिए नए नियम बना दिए हैं।

निडर, निष्पक्ष, निर्भीक चुनिंदा खबरों को पढने के लिए यहाँ >> क्लिक <<करें

यूपी में अब ब्लैक फंगस की दवाइयां
इस नए नियम के तहत उत्तर प्रदेश मेडिकल सप्लाई कारपोरेशन ने दवा खरीदने की प्रक्रिया शुरू कर दी है। कारपोरेशन सीधे कंपनियों से दवा खरीद रहा है। वहीं कंपनियों ने प्राइवेट मेडिकल स्टोर (private medical store) को इंजेक्शन और जरूरी दवाएं देने से मनाकर दिया है।

तेज़ी से फैल रहा है ब्लैक फंगस
इधर ब्लैक फंगस भी तेजी से फैलने लगा है। ब्लैक फंगस मरीजों को लाइपोसोमल एम्फोटेरीसीन-बी इंजेक्शन की डोज देनी होती है। कई मरीजों को दिन में एक बार तो कुछ को दो बार देने की आश्यकता पड़ती है। आम तौर पर एक हफ्ते में इंजेक्शन की खुराक देनी पड़ती है। बहुत से मरीजों को डॉक्टर इससे अधिक दिनों तक इंजेक्शन की सलाह देते हैं।

अधिक महत्वपूर्ण जानकारियों / खबरों के लिये यहाँ >>क्लिक<< करें

3,000 इंजेक्शन की डिमांड, 384 मिले
मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, लखनऊ में 70 से ज्यादा मरीज कई अस्पतालों में भर्ती हैं। जरूरत के बावजूद शासन से स्वास्थ्य विभाग को पर्याप्त मात्रा में फंगल इंफेक्शन में लगने वाले इंजेक्शन नहीं मिल पा रहे हैं। चिकित्सा शिक्षा विभाग की तरफ से लखनऊ को एम्फोटेरिशन बी 50 को 384 इंजेक्शन दिए गए हैं। जबकि जिला स्वास्थ्य विभाग ने 3,000 इंजेक्शन की डिमांड चिकित्सा शिक्षा विभाग को भेजी थी।

‘लोकल न्यूज’ प्लेटफॉर्म के माध्यम से ‘नागरिक पत्रकारिता’ का हिस्सा बनने के लिये यहाँ >>क्लिक<< करें

राज्य सरकार उपलब्ध कराएगी दवा
उधर अपर मुख्य सचिव चिकित्सा स्वास्थ्य अमित मोहन प्रसाद की ओर से जारी आदेश में कहा गया है कि ब्लैक फंगस से पीड़ित जिन मरीजों को बाजार से एम्फोटेरीसीन-बी इंजेक्शन बाजार से नहीं मिलेगा तो उन्हें यह दवा राज्य सरकार उपलब्ध करवाएगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *