रामदेव को भेजा समन दिल्ली हाईकोर्ट ने, एलोपैथिक इलाज, दवाओं और डॉक्टरों के खिलाफ दिए गए विवादित बयानों पर कोर्ट ने उठाया क़दम

हाई कोर्ट ने रामदेव के वकील से ज़बानी कहा कोई भड़काउ बयान न दे अपना रुख़ स्पष्ट करें..!

नई दिल्ली: दिल्ली हाईकोर्ट ने रामदेव को भेजा समन, कोर्ट ने यह क़दम, दिल्ली मेडिकल असोसिएशन की ओर से बाबा रामदेव के ख़िलाफ़ एलोपैथिक इलाज, दवाओं और मेडिकल डॉक्टरों के खिलाफ दिए गए विवादित बयानों पर उठाया है.

निडर, निष्पक्ष, निर्भीक चुनिंदा खबरों को पढने के लिए यहाँ >> क्लिक <<करें

भ्रामक करने वाला बयान, …प्रभावित करता

रामदेव को भेजा समन- हाई कोर्ट ने रामदेव के वकील से ज़बानी कहा कि वह सुनवाई की अगली तारीख़ 13 जुलाई तक उन्हें कोई भड़काउ बयान न देने और मामले पर अपना रुख़ स्पष्ट करने के लिए कहें।

डॉक्टरों की ओर से दिल्ली मेडिकल असोसिएशन (डीएमए) ने कहा कि रामदेव का बयान प्रभावित करता है क्योंकि वह दवा कोरोना वायरस का इलाज नहीं करती और यह भ्रामक करने वाला बयान है।

अधिक महत्वपूर्ण जानकारियों / खबरों के लिये यहाँ >>क्लिक<< करें

जन विरोधी और मानवता विरोधी, …क्षतिपूर्ति नहीं हो सकती

इससे पहले भारतीय चिकित्सा संघ आईएमए ने कहा कि योग गुरू रामदेव ने कोविड-19 महामारी को क़ाबू में करने संबंधी सरकार की कोशिश को ऐसा नुक़सान पहुंचाया है जिसकी क्षतिपूर्ति नहीं हो सकती और ऐसे वक़्त में भ्रम पैदा करने वाले राष्ट्र विरोधी हैं। वे जन विरोधी और मानवता विरोधी हैं। उन पर रहम नहीं करना चाहिए।

‘लोकल न्यूज’ प्लेटफॉर्म के माध्यम से ‘नागरिक पत्रकारिता’ का हिस्सा बनने के लिये यहाँ >>क्लिक<< करें

देशद्रोह के रूप में, …मुक़दमा चलाने की मांग

आईएमए ने कहा, “राष्ट्रीय कोविड प्रोटोकॉल और राष्ट्रीय टीकाकरण प्रोग्राम के ख़िलाफ़ लोगों के मन में भ्रम पैदा करना एक राष्ट्र विरोधी कार्य है। आईएमए ने इसे देशद्रोह के रूप में मानने और आपदा प्रबंधन अधिनियम के तहत उन पर (रामदेव) मुक़दमा चलाने की मांग की है।”

By admin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *