देश में इकोनॉमी को लेकर बढ़ी नाउम्मीदी, भारी गिरावट दर्ज हुई कंज्यूमर कॉन्फिडेंस इंडेक्स में

कंज्यूमर कॉन्फिडेंस यूं तो 2019 से ही निगेटिव है

देश में इकोनॉमी को लेकर बढ़ी नाउम्मीदी, कोरोना की दूसरी लहर की मार ने कंज्यूमर कॉन्फिडेंस इंडेक्स को काफी नीचे पहुंचा दिया है. कंज्यूमर कॉन्फिडेंस यूं तो 2019 से ही निगेटिव है. लेकिन कोरोना संक्रमण ने इसे भारी नुकसान पहुंचाया है. आरबीआई के सर्वे के मुताबिक मार्च 2021 में यह 53.1 फीसदी था लेकिन मई 2021 में गिर कर 48.5 फीसदी पर पहुंच गया.

कंज्यूमर कॉन्फिडेंस आर्थिक विकास को बढ़ाने में अहम भूमिका निभाता है

कंज्यूमर कॉन्फिडेंस आर्थिक विकास को बढ़ाने में अहम भूमिका निभाता है. यह परिवारों की खपत को दिखाता है. कंज्यूमर जब देश की मौजूदा और भविष्य की अर्थव्यवस्था में विश्वास जताता है तो ज्यादा खर्च करता है. यह स्थिति इस इंडेक्स को बढ़ाती है.

एम्पलॉयमेंट परसेप्शन मई में -74.9 फीसदी रहा

आरबीआई के सर्वे के मुताबिक मई में आर्थिक हालात को लेकर परसेप्शन गिर कर -75 पर आ गया. मार्च में यह -63.9 फीसदी पर था. एम्पलॉयमेंट परसेप्शन मई में -74.9 फीसदी रहा, जबकि मार्च में यह -62.4 था.आरबीआई के ताजा सर्वे के मुताबिक देश में परिवारों की ओर से खर्च कम हो रहा है. गैर जरूरी

खर्चे में लगातार गिरावट आ रही है.आरबीआई का यह सर्वे 29 अप्रैल से 10 मई तक देश के 13 बड़े शहरों में किया गया था . इसमें 5258 लोगों से बात की गई थी. लोगों से रोजगार की स्थिति, आर्थिक हालात, चीजों की कीमतों, कमाई और खर्चे पर सवाल पूछे गए थे.

RBI ने नहीं किया ब्याज दरों में कोई बदलाव, -7.3 फीसदी रियल जीडीपी रहने का अनुमान

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *