Manvadhikar Abhivyakti News
google.com, pub-2846578561274269, DIRECT, f08c47fec0942fa0

तालिबान क्या पंजशेर में घुस चूका है

google.com, pub-2846578561274269, DIRECT, f08c47fec0942fa0
google.com, pub-2846578561274269, DIRECT, f08c47fec0942fa0

अफ़ग़ानिस्तान के पंजशेर प्रांत में पूर्व उपराष्ट्रपति अमरुल्लाह सालेह और अहमद मसऊद के नेतृत्व में तालिबानी राज का मुकाबला कर रहे नेशनल रेसिस्टेंस फोर्स ने तालिबान के उस दावे का खंडन किया है, जिसमें कहा गया है कि उसके लड़ाके कई दिशाओं से घाटी में प्रवेश कर गए।

google.com, pub-2846578561274269, DIRECT, f08c47fec0942fa0

निडर, निष्पक्ष, निर्भीक चुनिंदा खबरों को पढने के लिए यहाँ >> क्लिक <<करें

google.com, pub-2846578561274269, DIRECT, f08c47fec0942fa0

अफ़ग़ानिस्तान की सरकारी समाचार एजेन्सी तूलूअ न्यूज़ के अनुसार अहमद शाह मसऊद के समर्थकों ने पंजशेर की ओर तालेबान की प्रगति के दावों को खारिज कर दिया और कहा कि किसी ने भी प्रांत में प्रवेश नहीं किया है।

रेसिस्टेंस फोर्स डेलिगेशन के प्रमुख मुहम्मद अलमास ज़ाहिद ने कहा कि पंजशेर में कोई लड़ाई नहीं हुई है और न ही कोई घाटी में दाख़िल हुआ है।

अधिक महत्वपूर्ण जानकारियों / खबरों के लिये यहाँ >>क्लिक<< करें

ज्ञात रहे कि इससे पहले तालेबान ने दावा किया था कि उसके लड़ाके पंजशेर प्रांत में दाख़िल हो गये हैं। तालेबान सांस्कृतिक आयोग के एक सदस्य अन्नामुल्लाह समांगनी ने कहा कि पंजशेर प्रांत में कोई लड़ाई नहीं हुई, मगर अफ़ग़ानिस्तान के इस्लामी इमारात के मुजाहेदीन बिना किसी प्रतिरोध का सामना किए विभिन्न दिशाओं से आगे बढ़े। इस्लामिक इमारात की सेना विभिन्न दिशाओं से पंजशीर में प्रवेश कर चुकी है।

पंजशेर में अहमद मसऊद और पूर्व राष्ट्रपति अमरुल्लाह सालेह मोर्चा संभाले हुए हैं और तालेबान को चुनौती देने की कोशिश कर रहे हैं। पंजशेर एकमात्र वह प्रांत है जिस पर तालेबान अभी तक क़ब्जा नहीं सका है।

‘लोकल न्यूज’ प्लेटफॉर्म के माध्यम से ‘नागरिक पत्रकारिता’ का हिस्सा बनने के लिये यहाँ >>क्लिक<< करें

लंबे समय से अहमद मसूद और सालेह के नेतृत्व में पंजशेर में लड़ाकों ने चट्टानी पहाड़ की चोटी से एक गहरी घाटी में एक भारी मशीनगन से फायरिंग करके तालेबान के लड़ाकों को क्षेत्र पर कब्जा करने से रोक रखा है। ये लड़ाके नेशनल रेसिस्टेंस फ्रंट के हैं, जो तालेबान द्वारा काबुल की पर कब्जा करने के बाद से एक मजबूत ताक़त के रूप में यहां बने हुए हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

google.com, pub-2846578561274269, DIRECT, f08c47fec0942fa0