27 C
Mumbai
Monday, July 4, 2022

आपका भरोसा ही, हमारी विश्वसनीयता !

सी-सेक्शन प्रसव का निजी अस्पतालों में हुआ खेल, ऑपरेशन हर दूसरी गर्भवती का

देश में निजी अस्पतालों में गर्भवतियों के ऑपरेशन से प्रसव के मामले अब सवालिया निशान तक पहुँच चुके हैं. राष्ट्रीय परिवार स्वास्थ्य सर्वेक्षण (एनएफएचएस) के आंकड़ों से पता चला है कि इन अस्पतालों में हर दूसरी गर्भवती का प्रसव ऑपरेशन से हो रहा है.

निडर, निष्पक्ष, निर्भीक चुनिंदा खबरों को पढने के लिए यहाँ >> क्लिक <<करें

द हिंदू की रिपोर्ट के अनुसार, आंकड़ों से पता चलता है कि देशभर के निजी अस्पतालों में सी-सेक्शन की यह संख्या 2014-15 में 17.2 फीसदी से बढ़कर 2019-20 में 21.5 फीसदी हो चुकी है। इसका मतलब है कि निजी या सार्वजनिक अस्पतालों में जाने वाली पांच में से एक महिला सी-सेक्शन से गुजरती है।

अधिक महत्वपूर्ण जानकारियों / खबरों के लिये यहाँ >>क्लिक<< करें

विश्व स्वास्थ्य संगठन के अनुसार, सी-सेक्शन की आदर्श संख्या 10-15 फीसदी तक रहनी चाहिए. जब यह दर 10 फीसदी तक बढ़ जाती है, तो मां और नवजात की मौत की संख्या कम हो जाती है। जब दर 10 फीसदी से अधिक हो जाती है, तो इस बात का कोई सबूत नहीं है कि मृत्यु दर में सुधार होता है।

कई राज्य और केंद्र शासित प्रदेशों के निजी अस्पताल सी-सेक्शन के माध्यम से 10 में से सात या आठ प्रसव करते हैं। इनमें पश्चिम बंगाल (82.7 फीसदी), जम्मू और कश्मीर (82.1 फीसदी), तमिलनाडु (81.5 फीसदी), अंडमान और निकोबार (79.2 फीसदी) और असम (70.6 फीसदी) शामिल हैं।

‘लोकल न्यूज’ प्लेटफॉर्म के माध्यम से ‘नागरिक पत्रकारिता’ का हिस्सा बनने के लिये यहाँ >>क्लिक<< करें

असम में ऐसे ऑपरेशनों की दर में 17.3 फीसदी की बढ़ोतरी होकर 70.6 फीसदी पहुंच चुकी है. वहीं, ओडिशा में 17 फीसदी की बढ़ोतरी के साथ 70.7 फीसदी, पंजाब में 15.8 फीसदी की बढ़ोतरी के साथ 55.5 फीसदी, तमिलनाडु में 12.5 फीसदी की बढ़ोतरी के साथ 63.8 फीसदी और कर्नाटक में 12.2 फीसदी की बढ़ोतरी के साथ 52.5 फीसदी हो गई है।

Latest news

ना ही पक्ष ना ही विपक्ष, जनता के सवाल सबके समक्ष

Related news

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here