27 C
Mumbai
Monday, July 4, 2022

आपका भरोसा ही, हमारी विश्वसनीयता !

बैंकों को निजीकरण से बचाने के लिए किया ऑयबाक

ऑल इंडिया बैंक ऑफिसर्स कन्फ़ेडरेशन (ऑयबाक) ने बैंक के प्रस्तावित निजीकरण के विरुद्ध लड़ाई तेज करते 24 से 30 नवंबर तक कोलकाता और मुंबई से दिल्ली एक भारत यात्रा का आयोजन किया है। इसके अर्न्तगत यात्रा का पड़ाव कल शनिवार को लखनऊ के बंधन होटल में पहुॅच कर आमसभा के रूप में हुआ। यात्रा का समापन जंतर-मंतर, नई दिल्ली में 30 नवम्बर को एक रैली की शक्ल में होगा।

निडर, निष्पक्ष, निर्भीक चुनिंदा खबरों को पढने के लिए यहाँ >> क्लिक <<करें

इसी क्रम में आज सुबह 7 बजे लोहिया पार्क से भारतीय रिज़र्व बैंक तक पैदल मार्च निकाला गया जिसमें सौरभ श्रीवास्तव, प्रदेश महासचिव, बैंक ऑफ़ इंडिया ऑफिसर्स एसोसिएशन ने कहा कि ‘‘बैंक निजीकरण से बैंक जमा की सुरक्षा कमजोर होगी, सरकार को बैंक निजीकरण का बिल संसद में लाने से पहले छोटे जमाकर्ताओं और देश की जनता के हितों के बारे में सोचना चाहिए,  भारत में जमाकर्ता की कुल बचत, जो कि रु0 87.6 लाख करोड़ है, का लगभग 70 प्रतिशत हिस्सा 60.7 लाख करोड़ सार्वजनिक क्षेत्र के बैंक के पास है, जो कि अपनी जमा के लिए सरकारी बैंकों को प्राथमिकता देते हैं।’’

अधिक महत्वपूर्ण जानकारियों / खबरों के लिये यहाँ >>क्लिक<< करें

आयबॉक के राष्ट्रीय महासचिव सौम्या दत्ता ने कहा कि ‘‘यदि सरकार बैंक निजीकरण के अपने इरादों से पीछे नहीं हटती है तो राष्ट्रीय स्तर पर और बड़ा विरोध प्रदर्शन और आन्दोलन होगा जिसका खामियाजा सरकार को आगामी चुनाव परिणामों में देखने को मिलेगा, उन्होंने बताया कि यह यात्रा कानपुर होते हुए आज आगरा पहुंचेगी जो कि कल नॉएडा होते हुए दिल्ली में 30 नवंबर को जन्तर मन्तर पर एक राष्ट्रीय धरने में परिणत होगी।

‘लोकल न्यूज’ प्लेटफॉर्म के माध्यम से ‘नागरिक पत्रकारिता’ का हिस्सा बनने के लिये यहाँ >>क्लिक<< करें

पवन कुमार, राष्ट्रीय उपाध्यक्ष, ऑयबाक ने कहा कि बैंक निजीकरण से रोजगार घटेगा जिससे कमजोर वर्ग प्रभावित होंगे। बैंकों के विलय से सरकारी बैंककर्मियों की संख्या 8.44 लाख से 7.70 लाख हो गई।

इस अवसर पर रिजर्व बैंक, गोमती नगर के पास मार्च के बाद सामाजिक अर्थशास्त्री मनीष हिन्दवी, कांग्रेस के प्रवक्ता सुरेन्द्र राजपूत, कर्मचारी नेता विजय कुमार बंधू, वरिष्ठ पत्रकार उत्कर्ष सिन्हा के साथ बैंक ऑफ़ इंडिया से भास्कर, अमित तथा अपूर्व, भोलेंद्र प्रताप सिंह-आर्यावर्त बैंक, लक्ष्मण सिंह-यूनियन बैंक, शेषधर राव-सेन्ट्रल बैंक ऑफ़ इण्डिया, आर.के.वर्मा-केनरा बैंक, अमरपाल सिंह-पंजाब नेशनल बैंक, हरी गुप्ता-इंडियन ओवरसीज बैंक आदि ने अपने विचार व्यक्त किये।

Latest news

ना ही पक्ष ना ही विपक्ष, जनता के सवाल सबके समक्ष

Related news

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here