27 C
Mumbai
Monday, August 15, 2022

आपका भरोसा ही, हमारी विश्वसनीयता !

FCRA लाइसेंस खत्म हुआ 12,000 से अधिक NGO का

एफसीआरए लाइसेंस के रिन्यूअल के लिए आवेदन करने में नाकाम लगभग 6,000 गैर-सरकारी संगठनों का लाइसेंस 1 जनवरी, 2022 से समाप्त हो गया है।

निडर, निष्पक्ष, निर्भीक चुनिंदा खबरों को पढने के लिए यहाँ >> क्लिक <<करें

एफसीआरए के तहत पंजीकृत कुल एनजीओ जो कल 1 जनवरी, 2022 तक सक्रिय या जीवित हैं, एक दिन पहले 22,762 से घटकर 16,829 हो गए हैं। आधिकारिक वेबसाइट के अनुसार, 12,580 गैर सरकारी संगठनों को उनके प्रमाणपत्र की वैधता की समाप्ति के कारण समाप्त माना जाता है।

जानकारी के अनुसार, एनजीओ ने अपना एफसीआरए पंजीकरण खो दिया, क्योंकि वे रिन्यूअल के लिए आवेदन करने में विफल रहे। जिन लोगों का एफसीआरए लाइसेंस समाप्त हो गया है, उनमें ऑक्सफैम इंडिया ट्रस्ट, इंडियन यूथ सेंटर्स ट्रस्ट, जामिया मिलिया इस्लामिया, ट्यूबरकुलोसिस एसोसिएशन ऑफ इंडिया, अन्य शामिल हैं।

अधिक महत्वपूर्ण जानकारियों / खबरों के लिये यहाँ >>क्लिक<< करें

इस साल की शुरुआत में, उन एनजीओ के एफसीआरए पंजीकरण की वैधता जो 29 सितंबर, 2020 और 30 सितंबर, 2021 के बीच समाप्त हो रही थी, 31 दिसंबर, 2021 तक बढ़ा दी गई थी। सरकार ने तब सक्रिय रहने के लिए अपने एफसीआरए लाइसेंस के लिए समाप्त होने वाले संगठनों को नवीनीकरण के लिए आवेदन करने के लिए कहा था। हालांकि, 22,762 में से करीब 6,000 संगठन अपने एफसीआरए लाइसेंस के नवीनीकरण के लिए आवेदन करने में विफल रहे।

फिर 31 दिसंबर, 2021 को गृह मंत्रालय ने एक और सार्वजनिक नोटिस जारी किया। 29 सितंबर, 2021 की अवधि के बीच समाप्त होने वाले एफसीआरए पंजीकरण प्रमाणपत्रों की वैधता के विस्तार के बारे में सूचित करते हुए और 22 मार्च, 2022, उन संगठनों के, जिन्होंने विदेशी अंशदान (विनियमन) नियम, 2011 के नियम 12 के अनुसार पंजीकरण के अपने प्रमाणपत्रों की वैधता की समाप्ति से पहले एफसीआरए पोर्टल पर नवीनीकरण के लिए आवेदन किया है।

‘लोकल न्यूज’ प्लेटफॉर्म के माध्यम से ‘नागरिक पत्रकारिता’ का हिस्सा बनने के लिये यहाँ >>क्लिक<< करें

भारत में अब केवल 16,829 एनजीओ हैं, जिनके पास अभी भी एफसीआरए लाइसेंस है, जिसे कल 31 मार्च, 2022 तक नवीनीकृत किया गया था।

Latest news

ना ही पक्ष ना ही विपक्ष, जनता के सवाल सबके समक्ष

Related news

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here