30 C
Mumbai
Monday, May 23, 2022

आपका भरोसा ही, हमारी विश्वसनीयता !

लता ने जब दिलीप कुमार की टिप्पणी से प्रेरित होकर मौलाना से सीखी उर्दू

स्वर कोकिला लता मंगेशकर की आवाज़ जितनी सुरीली थी वहीँ उनका तलफ़्फ़ुज़ (उच्चारण) बहुत स्पष्ट होता था. लेकिन लोगों के मन में यह सवाल ज़रूर उठता है कि एक मराठी भाषी गायिका ने उर्दू से परिचित नहीं होने के बावजूद इस भाषा में शब्दों का उच्चारण कैसे इतना बेहतर करती हैं? इसका जवाब जानने के लिए 1947 में जाना पड़ेगा जब लता मंगेशकर पहली बार दिलीप कुमार से मिलीं और उन्होंने लता मंगेशकर के उर्दू उच्चारण को लेकर संदेह जताया. इसके बाद दिलीप कुमार की एक टिप्पणी ने उन्हें उर्दू सीखने के लिए एक मौलाना से पढ़ने को प्रेरित किया. लता दिलीप कुमार की राखी बहन थीं.

निडर, निष्पक्ष, निर्भीक चुनिंदा खबरों को पढने के लिए यहाँ >> क्लिक <<करें

लता मंगेशकर ने दिलीप कुमार की आत्मकथा ‘द सब्सटेंस एंड द शैडो’ में उर्दू के साथ अपने प्रयोगों को याद किया और कहा कि कुमार ने उन्हें अपनी पहली मुलाकात में ही ‘अनजाने में और बिना सोचे समझे’ एक उपहार दिया था. प्रसिद्ध संगीतकार अनिल बिस्वास ने एक लोकल ट्रेन में लता मंगेशकर को दिग्गज अभिनेता से मिलवाया था. वर्ष 1947 में हुई मुलाकात को याद करते हुए लता मंगेशकर ने लिखा कि बिस्वास ने उन्हें दिलीप कुमार से यह कहते हुए मिलवाया, ‘यह लता है, बहुत अच्छा गाती हैं.’

अधिक महत्वपूर्ण जानकारियों / खबरों के लिये यहाँ >>क्लिक<< करें

इस पर कुमार ने जवाब दिया, ‘अच्छा, कहां की है?’ और बिस्वास ने उनका पूरा नाम लता मंगेशकर बताया. कुमार का वास्तविक नाम यूसुफ खान था और वह दिलीप कुमार के नाम से मशूहर थे.

लता मंगेशकर ने पुस्तक में कहा, ‘यूसुफ भाई की वो टिप्पणी, जब उन्हें पता चला कि मैं एक मराठी हूं, वह कुछ ऐसी है जिसे मैं संजोती हूं और इसने मुझे हिंदी और उर्दू भाषा में पूर्णता की तलाश को प्रेरित किया क्योंकि मैं इसमें कमजोर थी. उन्होंने बेहद सच कहा कि जो गायक उर्दू भाषा से परिचित नहीं थे, वे उर्दू के शब्दों के उच्चारण में हमेशा फंस जाते हैं और इससे श्रोताओं का मजा खराब हो जाता है.’

‘लोकल न्यूज’ प्लेटफॉर्म के माध्यम से ‘नागरिक पत्रकारिता’ का हिस्सा बनने के लिये यहाँ >>क्लिक<< करें

गायिका ने कहा था कि इससे शुरुआत में तो उन्हें अफसोस हुआ. उन्होंने कहा, ‘तब, मैंने टिप्पणी पर विचार किया और मुझे एहसास हुआ कि वह सही थे और उन्होंने इसे मेरे उच्चारण में सुधार करने के इरादे से कहा था.’ लता मंगेशकर ने कहा कि वह घर गईं और एक पारिवारिक मित्र को बुलाया और तत्काल उर्दू सीखने की इच्छा जताई और फिर एक विद्वान मौलाना से उर्दू सीखना शुरू किया.

Latest news

ना ही पक्ष ना ही विपक्ष, जनता के सवाल सबके समक्ष

Related news

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here