29 C
Mumbai
Friday, October 7, 2022

आपका भरोसा ही, हमारी विश्वसनीयता !

“नो-फ्लाई ज़ोन” को रूसी हमलों के बीच नाटो ने दिया खारिज कर, जेलेंस्की भड़के 

यूक्रेन के राष्ट्रपति वलोडिमिर ज़ेलेंस्की ने उत्तरी अटलांटिक संधि संगठन (नाटो) को यूक्रेन पर नो-फ़्लाई ज़ोन स्थापित लागू नहीं करने को लेकर भड़के हैं। एक टेलीविज़न संबोधन में उन्होंने कहा कि नाटो के फैसले ने रूस को “यूक्रेनी शहरों और गांवों पर और बमबारी के लिए हरी बत्ती” दिखा दी है।

निडर, निष्पक्ष, निर्भीक चुनिंदा खबरों को पढने के लिए यहाँ >> क्लिक <<करें

उन्होंने कहा, “आज एक नाटो शिखर सम्मेलन था, एक कमजोर शिखर सम्मेलन, एक भ्रमित शिखर सम्मेलन, एक शिखर सम्मेलन जहां यह स्पष्ट था कि हर कोई यूरोप की स्वतंत्रता की लड़ाई को नंबर एक लक्ष्य नहीं मानता है।”

राष्ट्रपति ज़ेलेंस्की ने कहा, “आज, गठबंधन के नेतृत्व ने यूक्रेनी शहरों और गांवों पर और बमबारी के लिए हरी बत्ती दिखाई, नो-फ्लाई ज़ोन स्थापित करने से इनकार कर दिया।”

इससे पहले, यूक्रेन के राष्ट्रपति ज़ेलेंस्की ने 24 फरवरी को रूस द्वारा देश पर भूमि, समुद्र और हवाई हमले के बाद यूक्रेन पर नो-फ्लाई ज़ोन स्थापित करने के लिए नाटो से अपील की थी।

अधिक महत्वपूर्ण जानकारियों / खबरों के लिये यहाँ >>क्लिक<< करें

शुक्रवार को, अमेरिका के नेतृत्व वाले नाटो ने कहा कि वह युद्ध में घसीटे जाने के इच्छुक नहीं और उसने रूसी हवाई हमलों से अपने आसमान को बचाने के लिए मदद के लिए यूक्रेन के आह्वान को खारिज कर दिया।

अमेरिकी विदेश मंत्री एंटनी ब्लिंकन ने शुक्रवार को कहा कि नाटो सदस्यों के क्षेत्र के “हर इंच” की रक्षा करेगा, लेकिन इस बात पर जोर दिया कि गठबंधन रक्षात्मक था।

उन्होंने कहा, “हमारा एक रक्षात्मक गठबंधन है। हम कोई संघर्ष नहीं चाहते हैं। लेकिन अगर संघर्ष हमारे पास आता है, तो हम तैयार हैं।”

‘लोकल न्यूज’ प्लेटफॉर्म के माध्यम से ‘नागरिक पत्रकारिता’ का हिस्सा बनने के लिये यहाँ >>क्लिक<< करें

यूक्रेन, एक पूर्व सोवियत गणराज्य, ने अतीत में यूरोपीय संघ और नाटो में शामिल होने की इच्छा व्यक्त की है, जिसको लेकर रूस का कहना है कि उसकी सुरक्षा और प्रभाव को खतरा है।

नो-फ्लाई ज़ोन सैन्य शक्तियों द्वारा स्थापित एक क्षेत्र है, जिसके ऊपर से विमानों को उड़ान भरने की अनुमति नहीं है। संघर्षों या युद्धों के दौरान, ज़ोन में संरक्षित किए जा रहे देश पर दुश्मनों को हमला करने से रोकने के लिए नो-फ्लाई ज़ोन लगाए जाते हैं। नो-फ्लाई ज़ोन हवाई क्षेत्र को बंद करने से अलग है, जो केवल वाणिज्यिक विमानों को संचालन से रोकता है।

यदि नो-फ्लाई ज़ोन लागू होता है, तो देश की सेना या गठबंधन जिसने इसे लगाया है, यदि कोई देश दूसरे देश के हवाई क्षेत्र पर आक्रमण करता है, तो उसे दुश्मन की उड़ानों को नीचे गिराना होगा।

Latest news

ना ही पक्ष ना ही विपक्ष, जनता के सवाल सबके समक्ष

Related news

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here