33 C
Mumbai
Monday, November 28, 2022

आपका भरोसा ही, हमारी विश्वसनीयता !

बनाना चाहते हैं मुझे प्रॉस्टिट्यूट, वॉट्सऐप किए थे अंकिता ने रिसॉर्ट के राज

अंकिता भंडारी हत्याकांड के बाद उत्तराखंड में उबाल है। पुलिस ने बताया कि उत्तराखंड के चीला नहर से 19 वर्ष की जिस रिसेप्शननिस्ट का शव मिला। उसपर रिजॉर्ट का मालिक अतिथियों को ‘स्पेशल सर्विस’ प्रदान करने के लिए दबाव डाल रहा था। पुलिस महानिदेशक अशोक कुमार ने कहा कि इस लड़की द्वारा अपने एक मित्र के साथ की गई चैट से यह जानकारी सामने आई है। इससे पहले रिसेप्शनिस्ट के एक फेसबुक मित्र ने कथित रूप से कहा कि उसकी दोस्त की हत्या इसलिए कर दी गयी क्योंकि उसने गेस्ट  के साथ यौन संबंध बनाने से इनकार कर दिया। इस दोस्त के अनुसार वह जिस रिजॉर्ट में काम करती थी, उसके मालिक ने उससे ऐसा करने को कहा था।
      
रिसेप्शनिस्ट को रिजॉर्ट के मालिक एवं उसके दो अन्य कर्मचारियों ने कथित रूप से मार डाला। यह रिजॉर्ट भाजपा के एक नेता के बेटे का है। लड़की का शव मिलने से पहले उसके अभिभावकों ने शिकायत दर्ज कराई थी कि वह सोमवार से से लापता है। लड़की के (फेसबुक) मित्र ने कथित रूप से कहा कि जिस रात को उसकी मित्र हत्या की गयी थी, उसी रात को उसने फोनकर बताया था कि वह ‘मुसीबत’ में है।
      
खबरों के अनुसार पीड़िता ने अपने मित्र से कहा था कि रिजॉर्ट के मालिक और प्रबंधक उसपर रिजॉर्ट में आने वाले अतिथियों के साथ यौन संबंध बनाने के लिए दबाव डाल रहे थे। फेसबुक मित्र के अनुसार रात साढ़े आठ बजे रिसेप्शनिस्ट से संपर्क नहीं हो रहा था। उसके अनुसार जब बार-बार कोशिश करने के बाद भी उससे संपर्क नहीं हो पाया तब उसने रिजॉर्ट के मालिक पुलकित आर्य को फोन किया जिसने उससे कहा कि वह सोने के लिए अपने कमरे में चली गयी है।
     
फेसबुक मित्र के मुताबिक अगले दिन जब उसने कथित रूप से फिर आर्य को फोन किया तब भी उसका फोन बंद था। तब उसने रिजॉर्ट के प्रबंधक अंकित को फोन किया जिसने कहा कि वह जिम में है। फेसबुक मित्र के अनुसार तब उसने रिजॉर्ट के रसोइया से बातचीत की जिसने उससे कहा कि उसने उस दिन लड़की को नहीं देखा है। 
     
रिजॉर्ट के मालिक पुलकित आर्य, रिजॉर्ट के प्रबंधक सौरभ भास्कर और सहायक प्रबंधक अंकित गुप्ता को शुक्रवार को गिरफ्तार किया गया था और उन्हें 14 दिन की न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया। इस मामले का मुख्य आरोपी पुलकित आर्य हरिद्वाज के भाजपा नेता विनोद आर्य का बेटा है । विनोद आर्य उत्तराखंड माटी कला बोर्ड के अध्यक्ष रह चुके हैं। 
     
शुक्रवार को जब आरोपियों को कोटद्वार की अदालत में ले जाया जा रहा था तब उनपर नाराज भीड़ ने पुलिस की गाड़ी पर हमला किया। भीड़ ने कार शीशे तोड़ दिये और तीनों आरोपियों के साथ मारपीट की। भीड़ में कुछ महिलाओं ने मांग की कि आरोपियों को फांसी पर लटकाया जाए। भोगपुर में लोगों ने विरोधस्वरूप रिजॉर्ट पर पथराव किया और उसकी खिड़कियों के शीशे तोड़ दिये। शुक्रवार को देर रात कार्रवाई करते हुए प्रशासन ने रिजॉर्ट को ढहाना शुरू किया । उसने कहा कि यह ”अवैध” रूप से बनाया गया था।
      
शनिवार सुबह को चीला नहर से रिसेप्शनिस्ट का शव बरामद किया गया था। कथित हत्यारों ने उसे इसी में फेंक दिया था। पुलिस ने कहा कि शव का ऋषिकेश के अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान में पेास्टमार्टम किया जा रहा है। कथित अपराधियों के विरूद्ध कार्रवाई में कथित देरी के प्रश्न पर पुलिस महानिदेशक ने कहा कि यह मामला बृहस्पतिवार को राजस्व पुलिस से नियमित पुलिस को हस्तांतरित किया गया और 24 घंटे के अंदर आरोपियों को सलाखों के पीछे भेज दिया गया।
     
इस बीच, रिसॉर्ट के समीप अचार की एक फैक्टरी में आग लग गयी। इससे यह संदेह प्रकट होने लगा है कि कहीं यह सबूत को नष्ट करने का आरोपियों की कोशिश तो नहीं है। मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने ट्वीट किया, ”आज सुबह बेटी अंकिता का पार्थिव शव बरामद कर लिया गया। इस हृदयविदारक घटना से मन अत्यंत व्यथित है।”
     
उन्होंने कहा, ”दोषियों को कड़ी से कड़ी सजा दिलाने हेतु पुलिस उपमहानिरीक्षक पी. रेणुका देवी जी के नेतृत्व में एसआईटी का गठन कर इस गंभीर मामले की गहराई से जांच के आदेश दे दिए हैं।” विपक्षी कांग्रेस ने कांग्रेस ने राज्य महिलाओं की खराब सुरक्षा स्थिति का आरोप लगाते हुए शनिवार को जिला मुख्यालयों पर प्रदर्शन किया। 
     
प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष करण महरा ने कहा कि लड़की 18 सितंबर को लापता हुई तथा चार दिन बाद प्राथमिकी दर्ज की गयी। उन्होंने कहा , ” यह दर्शाता है कि राज्य सरकार अपनी कार्रवाई में गंभीर नहीं है। उत्तराखंड में महिलाएं सुरक्षित नहीं हैं।” उन्होंने कहा, ” राज्य सरकार द्वारा की जा रही कार्रवाई आंखों में धूल झोंकने जैसा है। रिजॉर्ट को बस आंशिक रूप से ढहा दिया गया है।”
     
प्रदेश कांग्रेस की नेता गरिमा धसौनी ने कहा, ” यह सबूत नष्ट करने का प्रयास भी हो सकता है। इस बीच ऋषिकेश में शनिवार को रिसेप्शनिस्ट की हत्या पर यमकेश्वर की विधायक रेणु बिष्ट के देर से प्रतिक्रिया देने पर नाराज लोगों ने उनके वाहन को नुकसान पहुंचाया। जब वह चीला नहर से गुजर रही थी तब लोगों ने उनकी कार के पीछे का शीशा तोड़ तोड़ दिया। वह हमले में बाल बाल बच गयी। पुलिस उन्हें सुरक्षित ले गयी।
     
लोगों ने आरोप लगाया कि महिला होने के बाद भी विधायक ‘यमकेश्वर की बेटी’ के लिए न्याय की लड़ाई लड़ने में न केवल विफल रहीं बल्कि उसकी हत्या के कई दिनों बाद इस घटना पर उन्होंने प्रतिक्रिया दी।      

Latest news

ना ही पक्ष ना ही विपक्ष, जनता के सवाल सबके समक्ष

Related news

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here