33 C
Mumbai
Monday, November 28, 2022

आपका भरोसा ही, हमारी विश्वसनीयता !

रूसी सैनिकों की वापसी पूरी यूक्रेन के खेरसॉन से, अब तक का सबसे बड़ा झटका लड़ाई में

यूक्रेन के खेरसॉन शहर से रूसी सैनिकों की वापसी पूरी हो गई है। रूस के रक्षा मंत्रालय ने शुक्रवार को कहा कि उसने यूक्रेन के दक्षिणी खेरसॉन क्षेत्र में नीपर नदी के पश्चिमी किनारे से अपने सभी सैनिकों की वापसी पूरी कर ली है। रूस की सरकारी समाचार एजेंसियों ने मंत्रालय के हवाले से एक बयान में कहा कि शुक्रवार सुबह 5 बजे सैनिकों की वापसी पूरी की गई और अब एक भी सैन्य इकाई वहां नहीं बची है।

जिन क्षेत्रों से रूस की सेना ने वापसी की है उनमें खेरसॉन शहर भी शामिल है। यह एकमात्र क्षेत्रीय राजधानी है जिस पर मॉस्को ने यूक्रेन पर अपने हमलों के दौरान कब्जा किया था। रॉयटर्स ने रूस समर्थक एक ब्लॉगर्स के हवाले से कहा है कि रात में जब रूसी सैनिक नीपर नदी को पार कर रहे थे तब यूक्रेन की तरफ से भारी गोलीबारी की गई थी। वहीं, रूसी मंत्रालय ने कहा कि यूक्रेनी सेना ने अमेरिका की ओर से सप्लाई किए गए HIMARS रॉकेट सिस्टम के साथ रात में पांच पर नीपर नदी क्रॉसिंग पर हमला किया था।

उम्मीद से पहले ही खाली कर दिया खेरसॉन

रूस ने बुधवार को खेरसॉन से सैनिकों की वापसी का आदेश दिया। खेरसॉन से रूसी सैनिकों की वापसी काफी जल्दी में हुई है। टॉप अमेरिकी जनरल ने बुधवार को कहा था कि उनका अनुमान है नदी के उस पार रूस के करीब 20-30 हजार सैनिक है। इनकी निकसी में शायद सप्ताह भर का समय लग सकता है। रूस ने मात्र कुछ घंटों में सैनिकों की निकासी करके एक बार फिर सबको हैरान कर दिया है। यूक्रेन के रक्षा मंत्री ने गुरुवार को एक इंटरव्यू में रॉयटर्स को बताया कि उन्हें उम्मीद है कि रूसी सैनिकों की वापसी में कम से कम एक सप्ताह का समय लगेगा।

खेरसॉन से सैनिकों की वापसी बड़ा झटका

यूक्रेन की राजधानी कीव पर कब्जा जमाने में असफल होने के बाद सैनिकों की खेरसॉन से वापसी रूस के लिए तगड़ा झटका माना जा रहा है। करीब नौ महीने से चल रही इस जंग में रूसी सेना की यह सबसे बड़ी वापसी मानी जा रही है। दूसरी ओर क्रेमलिन प्रवक्ता दमित्री पेस्कोव ने कहा है कि मॉस्को अब भी खेरसॉन क्षेत्र को रूस के हिस्से के रूप में देख रहा है। उन्होंने कहा कि क्रेमलिन को करीब एक महीने पहले खेरसॉन और तीन अन्य यूक्रेनी क्षेत्रों पर अवैध कब्जे की खुशी मनाने पर कोई अफसोस नहीं है।

Latest news

ना ही पक्ष ना ही विपक्ष, जनता के सवाल सबके समक्ष

Related news

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here