25.5 C
Mumbai
Friday, January 27, 2023

आपका भरोसा ही, हमारी विश्वसनीयता !

रिहा करने का आदेश बिकिनी किलर के नाम से मशहूर चार्ल्स शोभराज को, नेपाल की सुप्रीम कोर्ट का फैसला

नेपाल की सुप्रीम कोर्ट ने फ्रेंच सीरियल किलर चार्ल्स शोभराज को रिहा करने का आदेश दिया है। उसे उम्र के आधार पर रिहा किया गया है। चार्ल्स दो अमेरिकी पर्यटकों की हत्या करने के आरोप में 2013 से नेपाली जेल में है। कोर्ट ने रिहाई के 15 दिनों के भीतर उसके निर्वासन (डिपोर्टेशन) का भी आदेश दिया है।

चार्ल्स शोभराज बिकिनी किलर के नाम से भी मशहूर है। सुप्रीम कोर्ट के न्यायाधीश सपना प्रधान मल्ला और तिल प्रसाद श्रेष्ठ की बेंच ने शोभराज को रिहा करने का आदेश दिया। सुप्रीम कोर्ट के प्रवक्ता के मुताबिक, शोभराज ने ही याचिका दायर की थी। उसने दावा किया कि वह 20 साल की सजा में से 17 साल पहले ही काट चुका है। उसके अच्छे व्यवहार के लिए रिहाई की सिफारिश भी की गई थी। नेपाल के कानून में अच्छा व्यवहार रखने वाले कैदियों को 75 फीसदी सजा पूरी होने के बाद रिहा करने का प्रावधान है। इसी आधार पर उसे जेल से रिहा करने का आदेश दिया गया है

जानकारी के मुताबिक, चार्ल्स शोभराज पर दो अमेरिकी पर्यटकों की हत्या करने के आरोप था। वह 2003 से नेपाल की जेल में बंद है। नेपाल की सर्वोच्च कोर्ट ने शोभराज के निर्वासन पर भी फैसला सुनाया है। कोर्ट ने रिहाई के 15 दिनों के अंदर उसके निर्वासन या डिपोर्टेशन का भी आदेश दिया है।

बिकनी किलर के नाम से मशहूर चार्ल्स शोभराज को अगस्त 2003 में काठमांडो के एक कैसीनो में देखा गया था। जिला अदालत, भक्तपुर ने उसे 1975 में अमेरिकी नागरिक कोनी जो ब्रोंजिच और कनाडाई नागरिक लॉरेंट कैरियर की हत्या के लिए उम्रकैद की सजा सुनाई थी।

21 साल तिहाड़ में भी रहा 
शोभराज ने 1986 में दिल्ली की तिहाड़ जेल में भी 21 साल की सजा काटी। शोभराज यहां सुरक्षा गार्डों को नशा देकर भाग निकला था। उसने अपना जन्मदिन मनाने के बहाने नशीली मिठाई खिलाई थी। माना जाता है कि शोभराज ने 1970 के दशक में 15 से 20 लोगों की हत्या की थी। उनके दो पीड़ितों को केवल बिकनी पहने हुए पाया गया। उसने एशिया में ज्यादातर पश्चिमी पर्यटकों के साथ दोस्ती की, बाद में 1972 और 1976 के बीच ज्यादातर को नशा देकर मार डाला।

Latest news

ना ही पक्ष ना ही विपक्ष, जनता के सवाल सबके समक्ष

Related news

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here