25.5 C
Mumbai
Friday, January 27, 2023

आपका भरोसा ही, हमारी विश्वसनीयता !

सिंगापुर में दोषी करार भारतीय मूल की महिला, नौकरानी के साथ दुर्व्यवहार करने का लगा है आरोप

सिंगापुर में भारतीय मूल की एक महिला को अपनी घर में काम करने वाली सहायिका के साथ मारपीट के तीन मामलों में बुधवार को दोष करार दिया है। आरोपित महिला का नाम दीपकला चंद्र सेचरन (38) है। जिला न्यायाधीश ओउ योंग टक लियोंग ने मुकदमे के बाद नौकरानी पर हमले में तीन मामलों में दोषी ठहराया। वहीं अब उसकी सजा छह फरवरी को सुनाई जाएगी।

एक रिपोर्ट के मुताबिक, सेचरन का अपराध तब सामने आया जब एक अन्य नौकरानी के अलर्ट के बाद पुलिस अधिकारी उसके घर पहुंचे। पीड़िता एनी अगस्टिन ने नौ दिसंबर 2019 को सेचरन के अपार्टमेंट में काम करना शुरू किया और उसके 16 दिन बाद से गाली-गलौज शुरू हो गई और यह सिलसिला जारी रहा, भारतीय मूल की महिला ने एक समय नौकरानी को मारने के लिए लकड़ी के हैंगर का इस्तेमाल किया।

25 अप्रैल, 2020 को, जब एनी अगस्टिन रसोई की खिड़की पर कुछ कर रही थी तो एक अन्य नौकरानी ने उसकी चोटों को देखा। इसके बाद उसने सेंटर फॉर डोमेस्टिक एम्प्लॉइज को फोन किया। सेंटर ने इस मामले को पुलिस पहुंचा दिया और अधिकारी उस दिन बाद में सेचरन के फ्लैट पर पहुंचे। दोषी ने चोट के निशान छिपाने के लिए पीड़िता के चेहरे पर नीम की छाल की एक मोटी परत लगा दी और पीड़िता को चोट कैसे लगी इसके बारे में न बताने को कहा।

मामले की जांच कर रहे अधिकारियों ने अदालत को बताया कि आरोपी महिला ने पीड़िता से पुलिस को सच बताने से मना किया था। अदालती दस्तावेजों के अनुसार, सेचरण ने आरोप लगाया था कि नौकरानी ने खुद को चोट पहुंचाई।

ब्रिटेन में भारतीय मूल के व्यक्ति को जेल 
ब्रिटेन में भारतीय मूल के 53 वर्षीय एक व्यक्ति को अपने दामाद पर चाकू से हमला करने के आरोप में आठ साल से अधिक की जेल की सजा सुनाई गई है। स्थानीय खबरों के मुताबिक, बर्मिंघम शहर के हैंड्सवर्थ पड़ोस के निवासी भजन सिंह ने पिछले साल अप्रैल में शराब के नशे में अपने दामाद पर हमला किया था। भजन सिंह अपनी बेटी, दामाद और अपने दो बच्चों के साथ रहते थे। अखबार ने कहा कि भजन सिंह और उनके दामाद भी उसी कारखाने में काम करते थे और दोनों के बीच कोई समस्या नहीं थी।

वकील एलेक्स वारेन ने कहा कि पीड़ित लिविंग रूम में था जब उसने अपनी गर्दन के पीछे एक झटका महसूस किया। उसने शुरू में सोचा कि प्रतिवादी ने उसे थप्पड़ मारा था, लेकिन बाद में उसे एहसास हुआ कि उसकी गर्दन कट गई है। उसने अपने को बचाने का प्रयास किया तो उसने हाथ पर हमला कर दिया जिससे उसकी उंगली में चोट आई। घटना के दौरान क्लीवर (बड़ा चाकू) का लकड़ी का हैंडल टूट गया। हालांकि उसको जेल में डाल दिया गया है।

Latest news

ना ही पक्ष ना ही विपक्ष, जनता के सवाल सबके समक्ष

Related news

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here