31 C
Mumbai
Saturday, May 25, 2024

आपका भरोसा ही, हमारी विश्वसनीयता !

Global Population: एक जनवरी को आठ अरब पार कर जाएगी दुनिया की आबादी, बीते एक साल में 7.5 करोड़ बढ़ी जनसंख्या

दुनियाभर में जनसंख्या लगातार बढ़ती जा रही है। अमेरिकी जनगणना ब्यूरो द्वारा गुरुवार को जारी आंकड़ों के अनुसार साल 2024 की एक जनवरी की आधी रात को दुनिया की आबादी आठ अरब को पार कर जाएगी। 

सबसे चौंकाने वाली बात यह है कि पिछले एक साल में दुनिया की जनसंख्या में 7.5 करोड़ लोगों की वृद्धि हुई है। इससे नए साल के दिन यानी एक जनवरी को यह आठ अरब से अधिक हो जाएगी। पिछले साल दुनिया भर में विकास दर सिर्फ एक प्रतिशत से कम थी। जनगणना ब्यूरो के आंकड़ों के अनुसार, 2024 की शुरुआत में दुनिया भर में हर सेकंड 4.3 जन्म और दो मौतें होने की उम्मीद है।

इतनी बढ़ी आबादी
आधिकारिक आंकड़ों के अनुसार, पिछले एक साल में 75,162,541 की वृद्धि है, जिससे एक जनवरी 2024 को अनुमानित विश्व जनसंख्या 8,019,876,189 हो जाएगी। 

कोविड-19 ने जनसंख्या वृद्धि को प्रभावित किया
हालांकि, घटती प्रजनन दर और युवाओं के छोटे अनुपात जैसे कारकों के कारण जनगणना ब्यूरो का अनुमान है कि नौ अरब की आबादी होने में अभी 14 साल से अधिक का समय लगेगा। इसके अलावा, 10 अरब तक पहुंचने में साढ़े 16 साल लगने का अनुमान है। यह अनुमान धीमे विकास दर को दर्शाता है। रिपोर्ट में कहा गया है कि कोविड-19 महामारी ने जनसंख्या वृद्धि को भी प्रभावित किया है। 

यह रही संयुक्त राष्ट्र की रिपोर्ट
गौरतलब है, पिछले साल नवंबर में संयुक्त राष्ट्र की एक रिपोर्ट में दावा किया गया था कि दुनिया की जनसंख्या आठ अरब हो गई।2030 तक पृथ्वी पर 850 करोड़, 2050 तक 970 करोड़ और 2100 तक 1040 करोड़ लोग हो सकते हैं। यह भी बताया गया था कि मानव की औसत उम्र भी आज 72.8 वर्ष हो चुकी है, यह 1990 के मुकाबले 2019 तक नौ साल बढ़ी है। 2050 तक एक मनुष्य औसतन 77.2 वर्ष तक जिएगा।संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंटोनियो गुटारेस ने इस अभूतपूर्व वृद्धि के पीछे सार्वजनिक सेहत, पोषण, स्वच्छता और चिकित्सा में सुधार को अहम कारण माना। 

पिछले साल आई संयुक्त राष्ट्र की रिपोर्ट के मुताबिक, वैश्विक जनसंख्या को सात से आठ अरब तक बढ़ने में 12 साल लगे हैं, जबकि 2037 तक यह 9 अरब तक पहुंच जाएगी। रिपोर्ट के मुताबिक, वैश्विक जनसंख्या की समग्र वृद्धि दर धीमी हो रही है। 

1950 के बाद से सबसे धीमी विकास दर
कई देशों में प्रजनन क्षमता में गिरावट आई है। जनसंख्या 1950 के बाद से सबसे धीमी दर से बढ़ रही है। वर्ष 2020 में एक प्रतिशत से भी कम हो गई है। 

2023 तक चीन को पीछे छोड़ेगा भारत
भारत चीन को पीछे छोड़कर साल 2023 तक सर्वाधिक आबादी वाला देश बन जाएगा। विश्व की आबादी 2080 के आसपास 1040 करोड़ तक पहुंचने का अनुमान है।

इन आठ देशों में होगी आधी आबादी
2050 तक भारत, पाकिस्तान, कॉन्गो, मिस्र, इथियोपिया, नाइजीरिया, फिलीपींस और तंजानिया में विश्व की 50 प्रतिशत आबादी निवास कर रही होगी। 

2100 में भारत में टीएफआर 1.29 हाेगी
इंस्टीट्यूट ऑफ हेल्थ मेट्रिक्स इवेल्यूएशन की रिपोर्ट के अनुसार 78 साल बाद भारत में टीएफआर 1.29 पर होगी, जो यूएन के आकलन 1.69 से कहीं कम है। भारत की आबादी साल साल 2100 में निर्धारित अनुमान से 43.3 करोड़ तक कम हो सकती है।

सबसे ज्यादा प्रवासी पाकिस्तान से निकले
2010 से 2021 के दौरान 1.65 करोड़ पाकिस्तानियों ने अपना देश छोड़कर दूसरे देशों में प्रवास किया है। इसके बाद भारत से 35 लाख, बांग्लादेश से 29 लाख, नेपाल से 16 लाख और श्रीलंका से 10 लाख लोग दूसरे देश चले गए।

Latest news

ना ही पक्ष ना ही विपक्ष, जनता के सवाल सबके समक्ष

spot_img
Related news

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Translate »