26 C
Mumbai
Saturday, March 2, 2024

आपका भरोसा ही, हमारी विश्वसनीयता !

अलविदा …. पंचतत्व में विलीन हो गया , महामानव , युग पुरूष , भारत रत्न मा. अटल बिहारी बाजपेयी का पार्थव शरीर । —- रवि जी. निगम

कूँच से क्यूँ डरूँ ….

एक युग का अन्त …

अजर , अमर , अटल , अमिट , अनन्त ।

दिल्ली – स्मृति स्थल पर नम आंखे से आज देश के सवा सौ करोड़ प्रेमियों ने दी अटल को बिदाई , किसी ने स्थल पर पहुँच कर तो किसी ने टीवी स्क्रीन के समक्ष बैठ कर , जिसको जैसा सुलभ हुआ वो उनके अंतिम संस्कार में सरीक़ हुआ , अटल उस ओजस्वी , तेजस्वी , यशस्वी व्यक्तित्व का नाम था , जिनके विरोधी तो थे लेकिन दुश्मन कोई नही था। उन्होने ने अपने सफर की शुरुवात देश की आजादी के लिये गाँधी जी के आन्दोलन से की , आजादी के पश्चात वो जनसंधी बन गये।

https://manvadhikarabhivyakti.com/wp-content/uploads/2018/08/img_20180817_171345.jpg

अटल जी का जन्म 25 दिसंबर 1924 को ग्वालियर के एक निम्न मध्यमवर्ग परिवार में हुआ , अटल जी की प्रारंभिक शिक्षा-दीक्षा ग्वालियर के ही विक्टोरिया (अब लक्ष्मीबाई) कॉलेज में हुई जहाँ उन्होने ने स्नातक की शिक्षा प्राप्त करने के पश्चात कानपुर के डीएवी कॉलेज से उन्होंने राजनीतिक विज्ञान में स्नातकोत्तर किया और वकालत में अपने पिता श्री कृष्ण बिहारी जी के साथ पिता और पुत्र ने दाखिला लिया दोनों एक क्लास में बठने की वजह से वो अपने चहेते शिक्षक पाण्डे जी के पी रोड स्थित निवास जा कर पढ़ते थे लेकिन वो वकालत पढ़ाई पूरी नहीं कर सके , और पत्रकारिता  में अपना करियर शुरु किया। उन्होंने राष्ट्र धर्म, पांचजन्य और वीर अर्जुन का संपादन किया।

https://manvadhikarabhivyakti.com/wp-content/uploads/2018/08/images-18.jpeg

अटल बिहारी वाजपेयी 1951 में भारतीय जन संघ के संस्थापक सदस्य बने । अपनी कुशल वाकपटुता और भाषण शैली से राजनीति के शुरुआती दिनों में ही उन्होंने रंग जमा दिय। हालांकि लखनऊ में एक लोकसभा उप चुनाव में वो हार गए थे। 1957 में जन संघ ने उन्हें तीन लोकसभा सीटों लखनऊ, मथुरा और बलरामपुर से चुनाव लड़ाया। लखनऊ में उनकी हार हुई तथा मथुरा में उनकी जमानत जब्त हो गई लेकिन बलरामपुर से चुनाव जीतकर दूसरी लोकसभा में पहुंचे। उनके संसदीय करियर की यह शुरुआत थी।1968 से 1973 तक वो भारतीय जन संघ के अध्यक्ष रहे। विपक्षी पार्टियों के अपने दूसरे साथियों की तरह उन्हें भी आपातकाल के दौरान जेल भेजा गया।

https://manvadhikarabhivyakti.com/wp-content/uploads/2018/08/img_20180817_155004.jpg

1977 में जनता पार्टी सरकार में उन्हें विदेश मंत्री बनाया गया। इस दौरान संयुक्त राष्ट्र अधिवेशन में उन्होंने हिंदी में भाषण दिया। 1980 में अटल बीजेपी के संस्थापक सदस्य रहे। 1980 से 1986 तक वे बीजेपी के अध्यक्ष साथ ही संसदीय दल के नेता भी रहे। अटल बिहारी वाजपेयी जीवनकाल में नौ बार लोकसभा के लिए चुने गए। दूसरी लोकसभा से तेरहवीं लोकसभा के बीच में कुछ लोकसभाओं से उनकी अनुपस्थिति रही। ख़ासतौर से 1984 में जब वो ग्वालियर में कांग्रेस के माधवराव सिंधिया के हाथों पराजित हो गए थे। 1962 से 1967 और 1986 में अटल बिहारी राज्यसभा के सदस्य भी रहे।

https://manvadhikarabhivyakti.com/wp-content/uploads/2018/08/unnamed-2.jpg

16 मई 1996 को अटलजी पहली बार देश के प्रधानमंत्री बने, लेकिन लोकसभा में बहुमत साबित न कर पाने की वजह से 31 मई 1996 को उन्हें त्यागपत्र देना पड़ा। इसके बाद 1998 तक वे लोकसभा में विपक्ष के नेता रहे।1998 के आम चुनावों में सहयोगी पार्टियों के साथ लोकसभा में उन्होंने बहुमत सिद्ध किया और इस तरह एक बार फिर प्रधानमंत्री बने। लेकिन एआईएडीएमके द्वारा गठबंधन से समर्थन वापस ले लेने के बाद उनकी सरकार गिर गई और एक बार फिर आम चुनाव हुए।

https://manvadhikarabhivyakti.com/wp-content/uploads/2018/06/img_20180529_134443.jpg

1999 में हुए चुनाव राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन के साझा घोषणापत्र पर लड़े गए और इन चुनावों में वाजपेयी के नेतृत्व को एक प्रमुख मुद्दा बनाया गया। इस गठबंधन को बहुमत हासिल हुआ और अटल बिहारी वाजपेयी ने एक बार फिर प्रधानमंत्री की कुर्सी संभाली। और 2004 तक वो पूरे पांच वर्ष लगभग 22 पार्टियों के गठबन्धन वाली सरकार चलाने वाले पहले प्रधानमंत्री बने । लेकिन 2004 में इण्डिया साइनिंग के नारे के साथ चुनाव मैदान में उतरे लेकिन सफलता नही प्राप्त हुई । कॉंग्रेस ने पुनः वापसी कर ली ।

Contact Now

अब हमारी सेवायें कानपुर में भी उपलब्ध ।

https://manvadhikarabhivyakti.com/wp-content/uploads/2018/05/img_20180528_164636.jpg

09619976777, 07977643978, 08850736386

OR E-mail – rohinee.enterprises@gmail.com

 

Latest news

ना ही पक्ष ना ही विपक्ष, जनता के सवाल सबके समक्ष

spot_img
Related news

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Translate »