29 C
Mumbai
Thursday, April 18, 2024

आपका भरोसा ही, हमारी विश्वसनीयता !

गाजा के संसद भवन पर इस्राइली रक्षा बलों ने किया कब्जा; UK के नए गृहमंत्री बोले- एक आतंकी संगठन हमास

इस्राइल और हमास के बीच चल रहा युद्ध अपने छठे सप्ताह में प्रवेश कर गया है और गाजा में जान-माल का भारी नुकसान जारी है। इस बीच, इस्राइली रक्षा बलों (आईडीएफ) ने गाजा के संसद भवन पर कब्जा कर लिया है। हमास के रॉकेट हमलों के बाद इस्राइल ने गाजा में तेज हवाई हमले किए थे। बाद में जमीनी अभियान शुरू कर दिया। 

दूसरी ओर, ब्रिटेन में एक टॉक शो के दौरान उस समय गरमागरम बहस देखने को मिली, जब लेबर पार्टी के पूर्व नेता जेरेमी कॉर्बिन ने हमास को आतंकी संगठन के रूप में मानने से इनकार कर दिया। टॉक शो को पियर्स मॉर्गन होस्ट कर रहे थे। हालांकि, देश के नवनियुक्त गृहमंत्री जेम्स क्लेवरली ने हमास को एक आतंकवादी संगठन बताया। 

सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म एक्स पर टॉक शो होस्ट पियर्स मॉर्गन के साथ जेरेमी कॉर्बिन की तीखी बहस का एक वीडियो पोस्ट करते हुए क्लेवरली ने लिखा, मैं एक गृहमंत्री के रूप में पुष्टि कर सकता हूं कि हमास एक आतंकवादी संगठन है। 

क्लेवरली की यह प्रतिक्रिया एक वीडियो के सामने आने के बाद आई है, जिसमें मॉर्गन बार-बार धुर वामपंथी नेता से पूछते नजर आ रहे हैं कि क्या पिछले महीने इस्राइल पर हमला करने वाले फलस्तीनी आतंकवादी थे, लेकिन वह इसका सीधे जवाब नहीं देते हैं। यह ‘पियर्स मॉर्गन अनसेंसर्ड’ कार्यक्रम के दौरान हुआ।

मॉर्गन लेबर पार्टी के पूर्व नेता से पूछते हैं- क्या वह एक आतंकवादी समूह है? जवाब में सांसद कॉर्बिन स टॉक टीवी के होस्ट से कहते हैं- सभी जानते हैं कि वह क्या है। मॉर्गन फिर पूछते हैं- क्या वह आतंकवादी समूह है? क्या आप यह कह सकते हैं? क्या आप उसे आतंकवादी संगठन कह सकते हैं? इसके बाद सवालों का जवाब देते हुए कॉर्बिन कहते हैं- क्या आपके साथ तर्कसंगत चर्चा करना संभव है?

मॉर्गन हमास के बारे में पूछते रहे, जबकि कॉर्बिन ने संघर्ष विराम की बात पर अड़े रहे। इसके बाद दोनों के बीच तीखी-बहस हो गई। जब मॉर्गन ने सवाल किया कि क्या उन्हें लगता है कि हमास को गाजा पर शासन करना जारी रखना चाहिए, तो उन्होंने यह कहते हुए जवाब दिया, यह आपके या मेरे ऊपर नहीं है।

ब्रिटेन में विपक्षी पार्टी ने 2020 में कॉर्बिन को एंटीसेमिटिज्म (यहूदी विरोधी भावना) चिंताओं के समाधान के संबंध में एक महत्वपूर्ण अध्ययन के बारे में सच को स्वीकार न करने के लिए निलंबित कर दिया था।

Latest news

ना ही पक्ष ना ही विपक्ष, जनता के सवाल सबके समक्ष

spot_img
Related news

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Translate »