26 C
Mumbai
Friday, February 23, 2024

आपका भरोसा ही, हमारी विश्वसनीयता !

द्वारा व्हाट्सअप मोटा भाई के कारनामे (गोदी मीडिया इसे नहीं दिखायेगा, सच्‍चाई के पक्ष में हैं तो इसे फॉरवार्ड जरूर करें)

केतन पारीख,  में शाह और माधवपुरा बैंक पता नहीं कितने लोगों को 2001 के ‘बिग बुल’ केतन पारीख का नाम याद है| शेयर बाज़ार के उसके हर्षद मेहता से कहीं बड़े फ्रॉड का एक हिस्सा था अहमदाबाद के माधवपुरा बैंक के साथ 1030 करोड़ रु की ठगी, जिससे ये बैंक ही बंद हो गया, इसके कितने ही जमाकर्ताओं का पैसा डूबा| इस बड़े सहकारी बैंक में पैसा रखने वाले 75 छोटे सहकारी बैंक भी डूब गए और इनके ग्राहकों का भी पैसा डूबा| बैंक ने मुक़दमा किया, पारीख गिरफ्तार हुआ और सुप्रीम कोर्ट से इस बात पर जमानत मिली कि 3 साल में 380 करोड़ रु बैंक को लौटाए| पर 3 साल होने से पहले ही बैंक ने बिना पैसा वसूल हुए मुक़दमा वापस ले लिया इसलिए जमानत रद्द होकर दोबारा जेल नहीं जाना पड़ा|
हंसमुखलाल शाह नाम के एक ग्राहक ने शिकायत की कि बैंक के निदेशक अमित शाह ने ढाई करोड़ रु रिश्वत लेकर मुक़दमा वापस लिया| जाँच के बाद गुजरात CID ने 1 अगस्त 2005 को राज्य सरकार को रिपोर्ट दी कि अक्टूबर 2004 के पहले सप्ताह में अमित शाह और बैंक को ठगने वाले केतन पारीख की मुलाकात गिरीश दानी नामक दलाल ने कराई, अमित शाह ने रिश्वत ली और मामला वापस ले लिया, बैंक डूब गया| सीआईडी ने सीबीआई से जाँच कराने की सिफारिश की|

पर ये अमित शाह और कोई नहीं गुजरात के मुख्यमंत्री मोदी के खास वाले अमित शाह ही थे| इसलिए जाँच भी क्यों होती!

और केतन पारीख का वकील कौन था? अरुण जेटली| सारे मुकदमों में कुछ महीने की सजा तो हुई थी पर उसे जेल नहीं जाना पड़ा, जमानत मिलती रही|

अमित शाह अभी भी कई सहकारी बैंकों में निदेशक हैं| नोटबंदी के दौरान इनमें बड़े पैमाने पर पैसा जमा होने की खबर भी आई थी| 5 दिन तक रिजर्व बैंक ने छूट देकर रखी, उसके बाद सहकारी बैंकों को पुराने नोट लेने पर रोक लगा दी|

वैसे ख़बर यही है कि अमित शाह पर भ्रष्टाचार का कोई आरोप नहीं! कई लोगों का तो यह भी ‘तर्क’ है कि अमित शाह के भ्रष्टाचार की बात अडानी/अम्बानी के भ्रष्टाचार की बात को छिपाने के लिए उठाई जा रही है!

स्रोत – द हिंदू की एक रिपोर्ट –

Latest news

ना ही पक्ष ना ही विपक्ष, जनता के सवाल सबके समक्ष

spot_img
Related news

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Translate »