34 C
Mumbai
Saturday, May 18, 2024

आपका भरोसा ही, हमारी विश्वसनीयता !

नया खुलासा पेगासस स्पाईवेयर विवाद में आया सामने, कर्नाटक में हुई थी जासूसी कांग्रेस-जेडीएस सरकार की !

कांग्रेस सरकार से जुड़े फोन नंबर संभावित टारगेट थे. ‘द वायर’ की‍ रिपोर्ट के अनुसार जुलाई 2019 में जेडीएस-कांग्रेस की सरकार के गिरने और बीजेपी की सरकार बनने का इस कथ‍ित जासूसी से संबंध है.

निडर, निष्पक्ष, निर्भीक चुनिंदा खबरों को पढने के लिए यहाँ >> क्लिक <<करें

उपमुख्यमंत्री जी परमेश्वर और मुख्यमंत्री एचडी कुमारस्वामी और पूर्व मुख्यमंत्री सिद्धारमैया के निजी सचिवों के फोन नंबर को कथित तौर पर संभावित लक्ष्य के रूप में चुना गया था.

अधिक महत्वपूर्ण जानकारियों / खबरों के लिये यहाँ >>क्लिक<< करें

‘द वायर’ के अनुसार इन नंबरों को तब देखा गया जब नंबरों के रिकॉर्ड की समीक्षा की जा रही थी जिनमें इजरायल के एनएसओ ग्रुप के एक भारतीय ग्राहक को दिलचस्पी थी. बता दें कि एनएसओ पेगासस स्पाईवेयर को केवल सरकारों को ही बेचता है.

‘लोकल न्यूज’ प्लेटफॉर्म के माध्यम से ‘नागरिक पत्रकारिता’ का हिस्सा बनने के लिये यहाँ >>क्लिक<< करें

द वायर की रिपोर्ट में बताया गया है कि कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी, चुनावी रणनीतिकार प्रशांत किशोर, दो केंद्रीय मंत्री, टीएमसी नेता अभिषेक बनर्जी और 40 भारतीय पत्रकार जासूसी के संभावित टारगेट थे. यह लिस्ट भारत की एक अज्ञात एजेंसी की है, जो कि इयरायली कंपनी एनएसओ ग्रुप का स्पाइवेयर Pegasus यूज करती है. एनएसओ का कहना है कि यह अपना Pegasus स्पाइवेयर केवल ‘जांची-परखी सरकारों’ को ही आतंक से लड़ने में मदद के लिए देती है. किसी भी प्राइवेट कंपनी को यह स्पाइवेयर नहीं दिया जाता है. भारतीय सरकार ने इसमें अपनी भूमिका से साफ इनकार किया है.

Latest news

ना ही पक्ष ना ही विपक्ष, जनता के सवाल सबके समक्ष

spot_img
Related news

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Translate »