33 C
Mumbai
Saturday, May 18, 2024

आपका भरोसा ही, हमारी विश्वसनीयता !

राष्ट्रपति जो बाइडन के बेटे हंटर की बढ़ी मुश्किलें, अदालत ने नशीली दवाओं और बंदूक मामले में ठुकराई अपील

अमेरिकी राष्ट्रपति के बेटे हंटर बाइडन की मुश्किलें बढ़ गई हैं। डेलावेयर में एक संघीय न्यायाधीश ने उनके खिलाफ अवैध रूप से बंदूक रखने के मामले को खारिज करने से इनकार कर दिया है। 

बता दें, हंटर बाइडन ने हथियार खरीदने के लिए झूठ बोलने और बंदूक खरीदने के दौरान ड्रग्स का इस्तेमाल करने के आरोपों के लिए दोषी नहीं होने का अनुरोध किया था। हालांकि, संघीय न्यायाधीश मैरीलेन नोरिका ने शुक्रवार को उनकी याचिका खारिज कर दी। 

यह पहला मौका है, जब अमेरिका में किसी मौजूदा राष्ट्रपति जो बाइडन के बेटे के खिलाफ आपराधिक आरोप तय हुए हैं। जून के पहले सप्ताह के दौरान सुनवाई होगी। 

यह है मामला
इससे पहले पिछले साल अदालत ने माना था कि हंटर ने हथियार खरीदने के लिए कई बार झूठ बोला है। उन पर अक्तूबर 2018 में बंदूक खरीदने के दौरान अपनी नशे की लत को लेकर झूठ बोलने का भी आरोप है। कहा गया था कि हंटर ने जब अक्तूबर 2018 में डेलावेयर के कॉल्ट कोबरा स्पेशल स्टोर से बंदूक खरीदी थी। तो उस समय बंदूक खरीदने के लिए उन्होंने जो फॉर्म भरे थे, उसमें उन्होंने झूठी जानकारी दी थी। उन्होंने उस समय कहा था कि वह ड्रग्स का आदी नहीं है जबकि ऐसा नहीं था। एक रिपोर्ट के अनुसार अदालत ने हंटर को इस मामले में दोषी माना है। 

हंटर ने दोषी नहीं होने का अनुरोध किया
हंटर बाइडन लगातार इन आरोपों से इनकार कर रहे हैं। वहीं, उनकी कानूनी टीम ने तर्क दिया था कि उनके मुवक्किल को वर्तमान राष्ट्रपति के साथ उनके पारिवारिक संबंध के कारण गलत तरीके से फंसाया जा रहा था। हंटर बाइडन के वकीलों ने तर्क दिया था कि मामला राजनीति से प्रेरित है। उन्होंने दावा किया था कि मूल याचिका सौदे से छूट का प्रावधान जो टूट गया था वह अभी भी कायम है। उन्होंने अभियोजन का नेतृत्व करने के लिए डेलावेयर में अविशेष वकील डेविड वीस की नियुक्ति को भी चुनौती दी थी।

हालांकि, संघीय न्यायाधीश ने इस बात पर प्रकाश डाला कि विशेष वकील डेविड वीस की नियुक्ति के लिए जिम्मेदार अटॉर्नी जनरल को स्वयं राष्ट्रपति द्वारा नियुक्त किया गया था। जो हंटर के खिलाफ कानूनी लड़ाई लड़ रहे हैं। न्यायाधीश नोरिका ने अपने फैसले में कहा कि हंटर पर आरोप लगाने वाली कार्यकारी शाखा का नेतृत्व राष्ट्रपति जो बाइडन द्वारा किया जा रहा है, जो फिलहाल उनके पिता है। डीओजे का नेतृत्व करने वाले अटॉर्नी जनरल को प्रतिवादी के पिता द्वारा नियुक्त किया गया था और रिपोर्ट किया गया था। उसी अटॉर्नी जनरल ने विशेष वकील नियुक्त किया, जिसने इस मामले को उठाया। 

न्यायाधीश ने इस बात को भी सिरे से खारिज कर दिया कि हंटर के खिलाफ सिर्फ इसलिए यह आरोप लगाए गए थे क्योंकि उनके पिता राष्ट्रपति हैं। साथ ही इस तरह के दावे को बकवास बताया।

हंटर नहीं दे सकें अपने बेगुनाही के सबूत: न्यायाधीश 
न्यायाधीश ने फैसला सुनाया कि हंटर और वीस के बीच 2023 के पिछले समझौते ने उन्हें चल रहे अभियोजन से प्रतिरक्षा प्रदान नहीं की। उन्होंने इस दावे को भी खारिज कर दिया कि आरोप राजनीति से प्रेरित हैं। उन्होंने फैसला सुनाया कि हंटर और वीस के बीच 2023 के पिछले समझौते ने उन्हें चल रहे अभियोजन से छूट नहीं दी थी। उन्होंने इस दावे को भी खारिज कर दिया कि आरोप राजनीति से प्रेरित हैं।

यह भी आरोप
बता दें कि हंटर अपनी बिजनेस डीलिंग्स को लेकर भी जांच के दायरे में रहे हैं। इस मामले को देख रहे एक विशेष काउंसिल ने कहा कि समय पर टैक्स का भुगतान नहीं करने की वजह से हंटर पर वॉशिंगटन या फिर कैलिफोर्निया में मामला चलाया जा सकता है।आरोप हैं कि हंटर बाइडन ने जानबूझकर आयकर का भुगतान नहीं किया। वह 2017 और 2018 में 15 लाख डॉलर से अधिक का टैक्स रिटर्न समय पर दाखिल नहीं कर पाए। इन दो सालों में उनकी कमाई पर लगभग एक लाख डॉलर से अधिक का बकाया है।

अदालत ने निष्कर्ष निकाला कि हंटर सबूत पेश करने में असफल रहे, इसलिए मुकदमा चलाया जाएगा। बंदूक मामले में फैसला सुनाए जाने के बाद टैक्स आरोपों से जुड़े मामले की जांच जून के अंत में शुरू होगी। 

Latest news

ना ही पक्ष ना ही विपक्ष, जनता के सवाल सबके समक्ष

spot_img
Related news

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Translate »